Breaking News

सिमुलतला : विद्यालय में अनियमितता का आलम, प्रभारी मिले गायब

शिक्षा का अलख जगाने में अपनी दावेदारी दिखाने वाली मौजूदा सरकार के इस राज में विभाग से जूडे कुछ ऐसे भी सूरमा दिख जाते हैं जिन्हें कंबल ओढ़ घी पीने की लत सी लग गई है। ऐसे में अनियमितता भी सर चढ़कर बोलती है। पढ़िए, ऐसी ही अनियमितता की ग्राउन्ड रिपोर्ट जो हमारे पाॅर्टल के युवा संवाददाता गणेश कुमार सिंह के पड़ताल में सामने आया।

सिमुलतला (गणेश कुमार सिंह) :- Edited by -Abhishek.

झाझा प्रखंड अंतर्गत आने वाले सिमुलतला क्षेत्र के उत्क्रमित मध्य विद्यालय उर्दू पुरनकाडीह में बुधवार को ग्रामीणों की शिकायत पर gidhaur.com की पड़ताल में  विद्यालय में भारी अनियमितता पाई गई। साथ ही विद्यालय में कार्यरत कुल 5 शिक्षक में से 4 शिक्षक पड़ताल के समय उपस्थित थे। जिसमें विद्यालय के प्रभारी जुनैद आलम बगैर किसी सूचना के अनुपस्थित पाये गए। ग्रामीणों की मानें तो ये सप्ताह में दो या तीन दिन ही विद्यालय आते हैं।

»[ ढाई सौ बच्चे में सिर्फ दस फिसदी है उपस्थिति] « 

 इतना ही नहीं विद्यालय में कक्षा एक से आठ में कुल 240 छात्र-छात्राओं का नामांकन है,जिसमें पड़ताल के समय सिर्फ 22 बच्चे उपस्थित थे। जिसकी उपस्थिति भी नहीं बनी थी, क्योंकि प्रभारी महाशय गोदरेज का चाभी अपने साथ ले जाते हैं। 

» [हाल एमडीएम का ]« 

वहीं इस विद्यालय में बिहार सरकार द्वारा चलाया जा रहा मध्याह्न भोजन में भी लूट मचा है। विद्यालय में एमडीएम कभी कभार ही बनता है। विद्यालय में तीन रसोईये में केवल कयूम मियां ही विद्यालय में थे। कयूम मिया कहते हैं कि हेडमास्टर समान ही नहीं देता है तो हम एमडीएम कैसे बनाएंगे?

»[फोन पर प्रभारी का आया वक्तव्य] «

 प्रभारी से फ़ोन पर हुई बातचीत में उन्होंने बताया कि मैं आदेश पुस्तिका में सहायक शिक्षक समसुद्दीन को प्रभार देकर अपने बहन की शादी में घर आया हूं। एमडीएम को लेकर बताया कि रसोइया जे बदमासी के कारण एमडीएम नहीं बना। और आदेश पत्र को लेकर समसुद्दीन कहता है कि प्रभारी हमे किसी प्रकार का आदेश पत्र नहीं दिया है।


» [सुनिए संकुल समन्वयक की] « 

 इस सन्दर्भ ने संकुल समन्वयक रूपेश पंडित ने कहा कि विद्यालय के प्रधानाध्यापक मनमाने तरीके से विद्यालय संचालित करते हैं, आज मैं विशेष बैठक में भाग लेने झाझा आया हूं इसलिय मैं विद्यालय निरीक्षण में नहीं पहुंच सका। प्रधानाध्यापक ने मुझे और न ही विभाग को छुट्टी के बारे में कोई लिखित जानकारी दी है।


»[क्या कहते हैं डीईओ साहब]«

 इस सन्दर्भ में जिला शिक्षा पदाधिकारी विजय कुमार हिमांशु ने बताया कि जिस प्रकार हमने डी एम के साथ चकाई प्रखंड में निरीक्षण कर 8 लोगों को निलंबित किया, उसी प्रकार हम यहाँ भी निरीक्षण करने वाले हैं। शिकायत की जांच कर कार्यवाई की जाएगी।