Breaking News

सिमुलतला : जब रिपोर्टर ने ग्राहक बनकर की बालू माफिया से बात, खुल गई पोल!

#खुलासा
सिमुलतला (बीरेन्द्र कुमार) :-
सरकारी आदेश की उड़ती धज्जियां एवं लूटते खनिजों का यदि साक्षात दर्शन करना हो तो सिमुलतला तसरीफ लाइए!
यहाँ का आलम यह है कि क्षेत्र में बालू उठाव के लिए दरोगा को एक रात के लिए प्रति ट्रैक्टर ₹5000 मात्र नजराना के तौर पर देना पड़ता है, तब जाकर बालू उठाव की अनुमति मिलती है। यही कारण है कि क्षेत्र में सात सौ रुपये प्रति ट्रैक्टर मिलने वाली बालू अब ढाई से तीन हजार रुपये में उपलब्ध हो रहा है।



इस तस्वीर में बालू पर ट्रैक्टर के टायर की छाप से आप क्षेत्र में बालू उठाव के खेल का अंदाजा लगा सकते हैं।  दरअसल, मंगलवार को यह खुलासा उस वक्त हुआ जब एक रिपोर्टर ने ग्राहक बनकर स्थानीय एक बालू कारोबारी सह ट्रैक्टर मालिक को फोन किया।
गिद्धौर डाॅट काॅम इन दो व्यक्तियों के बीच हुई बातचीत का कुछ अंश आप पाठकों के बीच रख रही है।
-*-*-*+*-*-*-*-*
  रिपोर्टर : हैलो
ट्रैक्टर मालिक : हां बोलिये
रिपोर्टर : मैं सिमुलतला बाजार से संजय बोल रहा हूं।
ट्रैक्टर मालिक : कौन संजय, हम पहचान नही रहे है।
रिपोर्टर : अरे भाई मेरा घर मील के पीछे है।
ट्रैक्टर मालिक : हां बोलिये।
रिपोर्टर : मुझे घर बनाना है बालू चाहिये 15- 20 ट्रैक्टर।
ट्रैक्टर मालिक: लेकिन बालू चलेगा तब ना.
रिपोर्टर : कब चलेगा ।
ट्रैक्टर मालिक : ई तो अंधेरिया इन्जोरिया है, जब थाना के बड़ा बाबू ऑर्डर देंगे तब चलना शुरू हो जाएगा।
*-*-*-*-*
रिपोर्टर : तब कैसे होगा
ट्रैक्टर मालिक : हम क्या करे बड़ा बाबू के आदेश के बिना रिस्क लें, चलेगा तभी तो गिराएंगे।
रिपोर्टर : अच्छा अभी का रेट क्या है।
ट्रैक्टर मालिक : पच्चीस सौ रुपइया।
रिपोर्टर : अरे यार!  पच्चीस सौ इतना महंगा, कितना खर्च गिरता है जो इतना महंगा हो गया, और इतना महंगा कौन लेगा?, हम तो एक आदमी से बात किये थे तो उसने मुझे 15-16 सौ का रेट दिया था।
-*--*-*--*--*
ट्रैक्टर मालिक : आप कुछ भी कहिये! वहां थाना में पांच हजार चाहिये।
रिपोर्टर : क्या!
ट्रैक्टर मालिक : हां, ठीके त बोल रहे हैं, यदि कोई दो हजार में भी गिराता है तो गिरवा लीजिए न सर।
रिपोर्टर : थाना में पैसा कौन लेता है?
ट्रैक्टर मालिक : बड़ा बाबू
रिपोर्टर : कौन थाना का बड़ा बाबू ?
ट्रैक्टर मालिक : सिमुलतला थाना का ।
रिपोर्टर : पांच हजार में कितने दिन चलती है ट्रैक्टर
ट्रैक्टर मालिक : मात्र एक रात के लिए ।..
-*-*-*-*-*---*
रिपोर्टर : बांका तरफ से जो बालू आता है वो भी तो आप दे सकते है?
ट्रैक्टर मालिक : हो सकता है कि उधर चलने वाला लोग आपको बालू गिरा सकता है, उधर कुछ सस्ता हो सकता है।
रिपोर्टर : क्या जरूरत है थाना को पांच हजार देने का चुपके से गिरा दो।
ट्रैक्टर मालिक : नही भाई!  मैं नही कर सकता, लोकल में जो लोग मांगते है बालू उसे तो हम दे नहीं सकते ।
रिपोर्टर : तो मेरा काम कैसे होगा?
ट्रैक्टर मालिक : आप इंतजार करिये, जिस दिन आदेश मिलेगा हम आपको बता देंगे।
--*--*---*-*-*-*-*-*
» कहते है थानाध्यक्ष बीरभद्र सिंह «
सिमुलतला थाना क्षेत्र में बालू बंद है। इसके बारे में कौन क्या कह रहा है, मुझे मालूम नहीं। हो सकता बालू बंद के चिढ़ से लोग इस तरह का आरोप लगा रहे हो।
अपील :-
हम अपने पाठकों से अपील करते हैं कि यदि आपके अपने क्षेत्र में अवैध बालू उठाव का खेल जारी हो तो उस पर आवाज उठाइए। गैर कानूनी कार्य को रोककर एक जिम्मेदार नागरिक के दायित्वों का निर्वहन करें ।