Breaking News

सिमुलतला : पुलिस ने जब्त किया ट्रैक्टर और जेसीबी, चार घंटे बाद मुक्त किया


सिमुलतला (बीरेन्द्र कुमार):-

  शुक्रवार की सुबह ईंट भट्ठे के लिए एक खेत से मिट्टी उठाव करने के दौरान सिमुलतला पुलिस ने थाना क्षेत्र बरौंधिया गांव के निकट से तीन ट्रैक्टर एवं एक जेसीबी मशीन को जब्त किया और चार घण्टे बाद मुक्त भी कर दिया।

जानकारी के अनुसार  टेलवा मोड़ निवासी शंकर यादव द्वारा बंगले भट्ठे की ईंट निर्माण कराया जा रहा था। शुक्रवार की सुबह ईंट के लिए निकट के एक खेत से जेसीबी एवं ट्रैक्टर के माध्यम से मिट्टी उठाव कर भट्ठे तक ले जाया जा रहा था इसी क्रम में सिमुलतला थाना के अवर निरीक्षक कामेश्वर सिंह अपने दल बल के साथ मिट्टी उठाव स्थल एवं भट्ठे पर पहुंचकर सभी ट्रैक्टरों व जेसीबी को उक्त स्थल पर ही जब्त कर स्थानीय चौकीदार नरेश यादव को डियूटी पर लगा दिया।इस संदर्भ में भट्ठे पर उपस्थित कुछ ट्रैक्टर चालक एवं चौकीदार ने बताया कि सिमुलतला थाने की पुलिस ने मिट्टी उठाव करने के दौरान इन सबों को जब्त किया है। 
 सूत्रों की मानें तो पुलिस की यह हरकत किसी आवश्यक कार्रवाई के लिए नही की गई थी बल्कि इस प्रकार के ईंट भट्ठे मालिकों के जेहन में पुलिसिया खौप उत्पन्न कर व्यवसाय के एवज में सौदेबाजी के लिए की गई थी।
    इस संदर्भ में भट्ठा मालिक नें बताया कि शुक्रवार की सुबह हमारे खुद की खेत से मिट्टी उठाकर अपनें भठ्ठे पर ला रहे थे इसी दौरान सिमुलतला थानें की पुलिस वहां आई और काम को बंद करवाकर जेसीबी एवं ट्रैक्टर की चाभी लेकर चौकीदार को दे दिया। पुलिस की इस हरकत को देख मेरे पुत्र राजेश यादव नें जब जानकारी लेना चाहा तो पुलिस उसके साथ बहुत ही अभद्रता से पेश आई और उसे गिरफ्तार कर पहले तो थाना लाया, फिर उसके साथ मारपीट एवं भद्दी भद्दी गालियां देने लगा। इस झंझट से छुटकारे के लिए पुलिस नें पहले पहले तो पच्चास  हजार रुपये की मांग किया, साथ ही धमकी भी दी कि यदि पैसे नही मिले तो तुमको भी जेल भेज देंगे और जेसीबी एवं ट्रैक्टर पर प्राथमिकी दर्ज कर उसे भी थानें में सड़ा देंगे। लगभग चार घंटे तक बहुत कहने सुनने  के बाद दस हजार रुपये देकर मैं वहां से किसी तरह बाहर आया, थानाध्यक्ष ने कहा कि बांकी चालीस हजार रुपया एक सप्ताह के अंदर पहुंचा देना तब कोई काम शुरू करना नही तो तुम समझो।
   पत्रकारों से बातचीत में थानाध्यक्ष वीरभद्र सिंह नें बताया कि जेसीबी एवं ट्रेक्टरों की कागजात की जांच के लिए इन सबों को कब्जे में लिया गया था।जांच कर उसे छोड़ दिया गया।