Breaking News

गिद्धौर : कृषि फीडर का निर्माण नहीं, शिविर से वंचित रह गये किसान

[न्यूज डेस्क | अभिषेक कुमार झा] :-

एक ओर मौजूदा सरकार अन्नदाताओं को कृषि के लिए नि:शुल्क बिजली कनेक्शन मुहैया करा कर किसानों को आत्मनिर्भर बनाते हुए उनके चेहरे पर मुस्कान बिखेर रही है वहीं दूसरी ओर वहीं दूसरी ओर जमुई जिले के गिद्धौर प्रखण्ड कृषि फीडर नहीं बन पाने से किसानों की उम्मीदें उपेक्षित नजर आ रही है।

यूं तो बिजली विभाग द्वारा प्रत्येक बुधवार को प्रत्येक प्रखंडों में खेती के लिए कनेक्शन लेने के लिए शिविर लगाया जाता है। पर कृषि फीडर नहीं बन पाने से गिद्धौर प्रखंड इस शिविर से वंचित रह गया। 

जमुई जिले अंतर्गत आने वाले अलीगंज, चकाई, सोनो, बरहट, खैरा आदि प्रखंडों के किसानों की यदि मानें तो इन प्रखंडों में शिविर लगने से स्थानीय कृषकों को विभागीय कार्यालय के चक्कर लगाने से निजात मिल गई है। वहीं गिद्धौर प्रखंड के कृषक विभिन्न कार्यों से विभाग के कर्मी तथा मापदंडों में उलझकर आर्थिक तथा मानसिक परेशानियाँ झेलने को विवश हैं। 

विभाग में कार्यरत एक कर्मचारी ने नाम उजागर न करने के शर्त पर बताया कि गिद्धौर छोड़कर जमुई जिले अंतर्गत आने वाले तकरीबन सभी प्रखंडों में बिजली विभाग द्वारा कृषि फीडर का निर्माण किया जा चुका है। विभाग इस संबंध में किसान हित के लिए समर्पित है। नि:शुल्क बिजली कनेक्शन लेने के लिए स्थानीय किसान आवश्यक दस्तावेज के साथ ऑनलाइन/ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं।

विदित हो, कृषि फीडर न बनने से गिद्धौर प्रखंड क्षेत्र के पूर्वी गुगुलडीह, मौरा, रतनपुर, कोल्हुआ, धोबघट, सहित कई इलाकों में गरीब किसान बांस के सहारे बिजली को अपने खेतों तक पहुँचा कर सिंचाई कार्य करते हैं, जिससे बिजली विभाग को काफी नुकसान सहना पड़ता है। 

विभागीय पहल से यदि गिद्धौर प्रखण्ड में कृषि फीडर का निर्माण कर दिया जाए तो वर्षाभाव में अकसर किसानों को होने वाली सिंचाई की समस्या लगभग समाप्त हो जाएगी और जिले के अन्य प्रखंडों की तरह गिद्धौर प्रखंड के अन्नदाता भी आत्मनिर्भर और सशक्त बन सकेंगे ।