Breaking News

अलीगंज : विफल साबित हो रही हर घर नल योजना



अलीगंज (चंद्रशेखर सिंह) : बिहार सरकार की अति महत्वाकांक्षी हर घर नल की योजना बेकार साबित हो रही है।

भले सुबे की सरकार गांव-गांव व वार्ड में एक बड़ी लागत से पानी टंकी बनवा रही है।लेकिन जमीनी हकीकत है कि पानी टंकी बनते ही कहीं नल टुट जा रहा है तो कहीं टंकी ही लिकेज हो पानी बह जा रहा है और लोगों को घर-घर नल जल योजना का लाभ से वंचित होना पड़ रहा है।पीएचईडी विभाग के लापरवाही के कारण पानी जहां-तहा बह जा रहा है शिकायत के बाद भी विभाग कुंभ करण की निंद्रा लेने में मस्त हैं।

वर्ष 2017 में बने दरखा गांव में 22 लाख की लागत से बनी टंकी गुणवत्ता हीन सामग्री के प्रयोग से घर -घर नल से जल नही पहुंच पा रहा है।रास्ता में जहां-तहा टुटकर सिर्फ़ शोभा की वस्तु बनकर रह गयी है।वही वर्ष 18 में पीएच ईडी विभाग द्वारा कोदवरिया पंचायत के वार्ड 12 ईटाबाध गांव में बनी पानी टंकी की घटिया किस्म की बनाई गई है।

ग्रामीण गोरेलाल यादव,उमेश कुमार ,मनोज कुमार ने बताया कि पेयजल संकट को लेकर सात निश्चय योजना के तहत पीएचईडी विभाग द्वारा पानी टंकी बनाकर पुरे वार्ड में घर-घर नल लगाया गया लेकिन महीनों दिन भी ग्रामीणों को नल से पानी नही मिल पाया है और कई जगहों पर पानी लिकेज हो गया था।लिकेज ठीक हुआ तो स्टाटर ही खराब हो गया है।जो छ महीनो से खराब पड़ा है।कोई देखने वाला नही है।नल जल से कई गरीब परिवार के लोग अपनी प्यास बुझा रहे थे।परंतु छ महीना से लोग स्वचछ पेयजल के लिए तरस रहे हैं।जिसका मुख्य कारण गुणवत्ता हीन सामग्री प्रयोग ही बताया जा रहा है।



अलीगंज प्रखंड को सरकार  सुखाड क्षेत्र घोषित कर दिया गया है।पीने के लिए पानी के लिए लोग तरस रहे हैं।शिकायत के बाद भी पीएचईडी विभाग के द्वारा समस्या को दुर करने में आनाकानी कर रही है।समाजसेवी सह युवा शक्ति के प्रांतीय नेता शशिशेखर सिंह ,मुन्ना ,राजेश पासवान,लोजपा प्रखंड अधय्क्ष बखोरी पासवान ने बताया कि सरकार के द्वारा संचालित घर -घर नल से जल पहुंचाने की कवायद तो ठीक थी लेकिन गुणवत्ताहीन सामग्री के प्रयोग से लोगों को नल जल योजना का लाभ नही मिल पा रहा है ।जिसके कारण पीने के पानी के लिए लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

पीएचईडी विभाग अभियंता कुमार बिंदुभूषण ने बताया कि गुणवत्ता हीन कार्य करने वाले संवेदक के खिलाफ कारवाई के लिए विभाग को लिखा गया है।