Breaking News

रतनपुर : छठ घाटों की सफाई को लेकर जन प्रतिनिधि उदासीन, गंदगी का लगा है अंबार

{(रतनपुर / रंजन कुमार) Edited by-Abhishek Kumar Jha.} :-

  लोक आस्था का महापर्व छठ में अब कुछ ही घंटे शेष रह गये हैं।  लेकिन रतनपुर पंचायत के लगभग सभी घाटों पर गंदगी का अंबार लगा हुआ है । अभी से ही छठ व्रतियों में छठ पूजा को लेकर नियम- निष्ठा से संपन्न करने को लेकर सारी तैयारियां धीरे-धीरे की जा रही है। गिद्धौर प्रखंड के तमाम नदी घाटों को छठ पूजा में साफ सफाई कराने को लेकर कोई भी कारगर पहल अब तक स्थानीय जनप्रतिनिधियों द्वारा नहीं किया गया। जिसके कारण घाटों की स्थिति बद से बदतर हालात में है।

गिद्धौर प्रखंड का रतनपुर पंचायत एक बहुत बड़ी घनी आबादी वाला पंचायत है फिर भी आज तक पंचायत प्रतिनिधियों एवं प्रखंड प्रशासन द्वारा छठ घाटों की साफ-सफाई नहीं कराई गई है, जो दुखद है। 

प्रखंड के कैराकादो घाट की यदि बात करें तो यहां पर ना समतल भूमि है, न सूप डलिया रखने का कोई स्थान और ना ही आने जाने का कोई रास्ता है। इस वर्ष वर्षा कम होने के कारण नदियों में पानी नहीं के बराबर है। अगर घाटों पर पानी रुकने की व्यवस्था एवं डलिया रखने की व्यवस्था प्रखंड प्रशासन एवं पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा नहीं किया जाता है, तो छठ व्रतियों को सुविधा देने की बात बेईमानी होगी। कैराकादो गांव के रंजीत यादव, नीतीश पासवान ,भोला प्रसाद यादव, सुरेश मांझी ,चुंकी देवी, रोहित मांझी आदि बताते हैं कि अन्य दिनों में तो हम लोग इस बदहाली को झेल लेते हैं लेकिन छठी मैया का आराधना किस बूते से करेंगे इस पर प्रश्न चिन्ह लगा है।


जमुई जिले के अन्य दूसरे अन्य प्रखंडों के  पंचायतों में मुखिया, विधायक, प्रखंड विकास पदाधिकारी घाटों पर जाकर जायजा ले रहे हैं और आवश्यक दिशा-निर्देश भी दे रहे हैं पर रतनपुर पंचायत इससे क्यों अछूता है यह बात ग्रामीणों को हजम नहीं हो रहा है। 

{साभार :- अजीत कुमार यादव/भीमराज}