Breaking News

चकाई : नावा आहार तालाब में लगा कूड़े-कचरे का अंबार, छठ में होगी परेशानी

चकाई (सुधीर कुमार) : लोक आस्था का महापर्व छठ में महज अब एक सप्ताह ही समय रह गया है।लेकिन छठ घाटो पर अभी भी गंदगी एवं कूड़े कचरे का अंबार लगा हुआ है।जिससे छठ छठव्रतियों को इस बार भी भगवान भास्कर की आराधना करने में भारी परेशानी से गुजरना पड़ सकता हैं।लेकिन प्रशासन इस दिशा में लापरवाह नजर आ रहा है।चकाई बाजार स्थित प्रसिद्ध नावा आहार तालाब जहाँ सार्वजनिक छठ पूजा समिति के द्वारा बड़े पैमाने पर छठ पूजा का आयोजन होता है।घाटो पर भी गंदगी का अंबार लगा हुआ है।छठ में सर्वाधिक श्रद्धालुओं की भीड़ यहां पर उमड़ती है।पूजा समिति के श्रवण लहेरी,बजरंगी गुप्ता, पप्पू गुप्ता, दादू केशरी आदि ने बताया की नावा आहार तालाब मे 1996 से सार्वजनिक छठ पूजा समिति के बैनर तले भगवान भास्कर सहित 31 देवी देवताओं की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना की जाती हैं।

नहीं होती है नियमित रूप से साफ-सफाई

साथ ही पांच दिवसीय गोशाला मेला का आयोजन किया जाता है।इसके अलावे यहां बड़ी संख्या में छठव्रती भगवान सूर्य को अर्घ प्रदान करती है।लेकिन प्रशासन द्वारा किसी तरह की साफ सफाई एवं सहयोग नही की जाती हैं।हालांकि पूजा समिति द्वारा अपने स्तर से साफ सफाई करायी जाती है।

प्रदूषण के कारण बदबू दे रहा तालाब का पानी
वर्तमान में तालाब में गंदगी एवं कूड़े कचरे का अंबार लगा हुआ है। वही दूसरे तालाब में जलकुंभी एवं की कीचड़ के कारण यह ऐतिहासिक तालाब आज अपना अस्तित्व खोने को मजबूर हैं।वही बाजार के कुछ व्यवसायियों द्वारा अपने घरों एवं शौचालययो  का गंदा पानी तालाब में गिराया जा रहा है।जिससे तालाब का पानी काफी प्रदूषित हो गया हैं। आठ साल पूर्व तत्कालीन विधायक स्व. फाल्गुनी प्रसाद यादव द्वारा यहां सौदयारीकरण कार्य के तहत दक्षिणी घाट पर घाट का निर्माण कराया गया था।लेकिन उसके बाद फिर किसी जनप्रतिनिधियों द्वारा इस और ध्यान नही दिया गया।