Breaking News

सिमुलतला : प्रशासनिक आदेश को ठेंगा दिखा रहे बालू माफिया, अवैध उठाव जारी

{सिमुलतला | गणेश कुमार सिंह}

थाना क्षेत्र के बडुवा और घघरी नदी में बालू उठाव धड़ल्ले से चल रहा है। वहीं बाँका जिला के चेनुवारी एवं चापातरी घाट से निर्भय होकर बालू उठाव और सिमुलतला में परिवहन कर सरकार व प्रशासन के आदेश को ठेंगा दिखा रहे बालू  माफिया क्षेत्र के विभिन्न बालू घाटों से बालू का अवैध उठाव कर रहे है और पुलिस इसे रोक पाने में विफल साबित हो रही है। बालू माफिया धड़ल्ले से बालू का उठाव का सरकार के राजस्व को नुकसान पहुंचा रहे हैं। हालांकि इस कार्य में स्थानीय प्रशाशन का भी साथ मिलने से यह धंधा फल-फूल रहा है।अवैध तरीके से बालू का उठाव करने वाले माफियाओं को पुलिसिया कार्रवाई का कोई डर नहीं है। यही वजह है कि सरकार के सख्त निर्देश के बाद भी क्षेत्र के बडुवा, घघरी और कई बालू घाटों से बालू का उठाव एवं उसका परिवहन बेरोकटोक हो रहा है। इन माफियाओं को सफेदपोशों का संरक्षण प्राप्त है। बालू के गोरखधंधे में क्षेत्र के अलावे निकटवर्ती जिले के भी माफिया जुड़े हुए हैं। बालू के अवैध कारोबार से जुड़े माफियाओं की धौंस के आगे पुलिस भी बौना साबित हो रही है। यदि माफियाओं को पुलिसिया कार्रवाई का डर होता तो रात होते ही प्रशाशन के सामने बालू का उठाव नहीं होता। बालू का अवैध कारोबार करने वाले माफिया रात में उठाव व उसका परिवहन करते हैं। जिसके कारण सड़क के किनारे बसे ग्रामीण की नींद ट्रेक्टर के गड़गड़ाहट से हराम हो जाती है। बालू घाटों से बालू के उठाव से सबसे ज्यादा फायदा अब तक यदि किसी को हुआ है तो इस धंधे में शामिल माफियाओं व अफसरों की। बालू घाटों से बालू के उठाव पर लगी रोक के बावजूद बालू का उठाव एवं उसका परिवहन किया जाना यही साबित कर रहा है कि माफियाओं को न तो शासन और न तो प्रशासन का कोई भय है। मजदूर के सहारे बालू माफिया बालू का उठाव कर उसे बेच कर मुनाफा कमा रहे हैं और सरकार के राजस्व को चूना लग रहा है।
जमुई एस पी जे. रेड्डी से अवैध बालू उठाव संबंध में फोन पर हुई बातचीत के दौरान बताया कि सिमुलतला एक अति संवेदनशील क्षेत्र हैं वहाँ रात्रि के वक्त कार्यवाही संभव नहीं। जबकि सिमुलतला थानाध्यक्ष वीरभद्र सिंह कहते है कि बालू उठाव की जानकारी हमें नही है। हमारी टीम की पेट्रोलिंग ससमय जारी रहती है।