Breaking News

सिमुलतला : प्रसिद्धि के मुकाम को छू रहा है यहाँ का छेनामुरकी मिठाई, लाजवाब है स्वाद


{सिमुलतला | गणेश कुमार सिंह}

बिहार की प्रतिभावान धरती पर छोटी शिमला कहे जाने वाली जमुई जिलांतर्गत आसनसोल झाझा रेलखण्ड के मध्य प्राकृतिक छटा के गोद मे बसा हुआ एक स्थल है जो सिमुलतला के नाम से जाना जाता है।
यहाँ के शुद्ध प्राकृतिक आवोहवा के तरह यहाँ का मिठाई भी अपनी प्रसिद्धि के मुकाम को छू रखा है।
हम बात कर रहे हैं, शुद्ध पनीर से बनने वाली मिठाई जो "छेनामुरकी" के नाम से प्रसिद्ध है। यह मिठाई स्वाद और शुद्धता के लिए जाना जाता है। इसका उम्दा स्वाद व बेहतर रंग रूप के कारण स्थानीय व बाहरी लोगों के लिए यह मिठाई पहली पसंद बनी है।
यहाँ की सुंदर वादियों का दीदार करने आने वाले सैलनियाँ इस व्यंजन का लुफ्त उठाना तथा जाते समय छेनामुरकी साथ ले जाना नही भूलते। सिमुलतला आने जाने वाले सभी सगे संबन्दी एवं राहगीर इस मिठाई को ही संदेश के तौर पर ले जाते है। बाहरी लोगों को अलग अंदाज में इस अनोखे मिठाई का स्वाद चखाने पर वो बोल उठते हैं कि कहाँ की मिठाई है ?

सिमुलतला के प्रसिद्ध गुप्ता मिस्टान भंडार के दुकानदार (नुनु चाचा) कहते हैं कि इस मिठाई को बनाना बड़ा ही सरल है, पर यह केवल स्थानीय पनीर से ही बनाया जाता है। इस मिठाई की सबसे बड़ी विशिष्टता यह है कि इस मिठाई में पनीर और चीनी के अलावा कुछ भी नहीं होता एवं इस मिठाई को सिमुलतला के अलावा और किसी अन्य स्थल पर अब तक नही बनाया जा सका है।