Breaking News

गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव में चार चाँद लगायेंगे राष्ट्रीय फलक के कलाकार


गिद्धौर (सुशान्त सिन्हा) : गिद्धौर निवासी पूर्व केन्द्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह ने सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव की शुरुआत की थी. जिसका आयोजन वर्षों तक वृहद् पैमाने पर होता आया था. राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्तर के नामचीन हस्तियों ने गिद्धौर के कुमार सुरेन्द्र सिंह स्टेडियम में अपनी मनमोहक प्रस्तुति देकर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया.

लेकिन दिग्विजय सिंह के निधन के साथ ही गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव जैसे आयोजन पर विराम लग गया. लोग गाहे-बगाहे इस बात की चर्चा जरुर करते कि दिग्विजय सिंह होते तो यह आयोजन अनवरत जारी रहता.
राजनीतिक परिदृश्य बदले, केंद्र, राज्य एवं स्थानीय स्तर पर सत्तारूढ़ जनप्रतिनिधियों-अधिकारीयों में परिवर्तन हुए. और अचानक से ही एक दिन यह खबर आई कि गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव के आयोजन को कला, संस्कृति एवं युवा मंत्रालय बिहार सरकार द्वारा स्वीकृति मिल गई है. वह तारीख था 3 जून 2018. इस खबर के मिलते ही लोगों में उल्लास, उमंग और उत्साह का संचार हुआ. कुछ लोगों को ताज्जुब भी हुआ कि गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव जैसे बड़े आयोजन की स्वीकृति अचानक से मिल कैसे गई!
दरअसल हुआ यह था कि गिद्धौर निवासी सूबे के पूर्व मंत्री दामोदर रावत ने अपने स्तर से कला, संस्कृति एवं युवा मंत्रालय बिहार सरकार से यह निवेदन किया था कि भारतीय संस्कृति एवं लोक कलाओं को जनमानस के हृदय में बनाये रखने के लिए गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव के आयोजन की स्वीकृति दी जाए. श्री रावत द्वारा दिए गए आग्रह पत्र के प्रत्युत्तर में कला, संस्कृति एवं युवा मंत्रालय बिहार सरकार के मंत्री श्री कृष्ण कुमार ऋषि ने अपनी स्वीकृति देते हुए जिला प्रशासन जमुई को आयोजन की जिम्मेवारी सौंपी.

यह खबर आप gidhaur.com पर पढ़ रहे हैं.
बाद में जमुई जिलाधिकारी धर्मेन्द्र कुमार ने गिद्धौर प्रखंड कार्यालय में बैठक कर आयोजन समिति का गठन किया, आयोजन की तारीख निर्धारित की गई और कार्यक्रम की रूप-रेखा बनाई गई. इसमें जिला स्तर के अधिकारीयों के साथ-साथ प्रखंड एवं पंचायत के प्रतिनिधियों-अधिकारियों को भी कार्यक्रम से सम्बंधित जिम्मेदारियां सौंपी गई. इसके बाद डीएम धर्मेन्द्र कुमार ने आयोजन स्थल कुमार सुरेन्द्र सिंह स्टेडियम का निरीक्षण किया और जरुरी दिशा-निर्देश दिए. कार्यक्रम का आयोजन 15 एवं 16 अक्टूबर 2018 को होना सुनिश्चित हुआ.

अब आते हैं मुद्दे की बात पर. आयोजन की स्वीकृति भी मिल गई, आयोजन समिति का गठन हो गया, कार्यक्रम स्थल का निरीक्षण भी हो गया. लेकिन चर्चा में सबसे बड़ा मुद्दा यह था कि कार्यक्रम में किन कलाकारों से रूबरू होने का मौका दर्शकों को मिलेगा? यानि की दिग्विजय सिंह के निधन के बाद पहली दफा हो रहे गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव में किन कलाकारों की प्रस्तुति होगी? बाजार में तरह-तरह की बातें हो रहीं थीं. सभी अपने-अपने हिसाब से कयास लगा रहे थे. कोई किसी के आने की बात करता तो कोई किसी और की. कोई बजट की बात करता तो कोई कलाकारों के फीस डिमांड की. इस बीच रविवार को पूर्व मंत्री दामोदर रावत से मेरी मुलाकात हुई. पूछने पर उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा ही कलाकारों का चयन कर उनसे बातचीत की जाएगी.
अंततः सभी कयासों पर विराम लगते हुए आज (04/10/2018, गुरुवार) आपके चहेते, विश्वसनीय एवं क्षेत्र का सर्वाधिक पढ़ा जाने वाला पोर्टल gidhaur.com के पास गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव का आमंत्रण पत्र पहुंचा. जिस आधार पर हम आपको बताने जा रहे हैं कि इस वर्ष के दो दिवसीय गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव में  कौन- कौन से सितारे अपना जलवा  बिखेरने आ  रहे हैं. या तो आप इस खबर को शेयर कर लें या कहीं नोट कर के रख लें.

कार्यक्रम का रंगारंग उद्घाटन 15अक्टूबर को होगा. पहले दिन के कार्यक्रम में सुपरहिट भजन 'कभी राम बनके, कभी श्याम बनके' की गायिका तृप्ति शाक्या अपनी मनभावन प्रस्तुति से माहौल को भक्ति रस से सराबोर करेंगी. साथ ही इसी दिन एक्रोबेटिक योग का भी प्रदर्शन किया जायेगा. एक्रोबेटिक योग ऐसा योग होता है जिसमें दो लोगों का आपसी तालमेल और समझ बहुत जरुरी होती है. एक दूसरे पर आँख बंद कर के भरोसा करना होता है, तभी योग के वह स्टेप्स किये जाते हैं जो दर्शकों को दांतों तले उँगलियाँ दबाने को मजबूर कर दें.
महोत्सव के दूसरे दिन यानि समापन के अवसर पर ग़ज़ल गायिका हिना परवीन और दिलबर साबरी कवाल्ली की प्रस्तुति देंगे. दोनों दिनों के कार्यक्रमों का पूर्वनिर्धारित समय शाम 6 बजे रखा गया है. कार्यक्रम का आयोजन कला, संस्कृति एवं युवा विभाग, बिहार और जिला प्रशासन, जमुई के संयुक्त तत्वावधान में किया जा रहा है.

आयोजन समिति में शामिल एक स्थानीय जनप्रतिनिधि के हवाले से अपुष्ट खबर मिली है कि गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव के उद्घाटन में बतौर अतिथि बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, जमुई सांसद चिराग पासवान सम्मिलित होंगे.
तो अगर आप गिद्धौर से बाहर हैं तो आइये. माँ दुर्गा का आशीर्वाद पाइए और महोत्सव का लुत्फ़ उठाइए.
(ऊपर दी गई कार्यक्रम की तस्वीरें गिद्धौर सांस्कृतिक महोत्सव 2007 की है. साभार : धनंजय कुमार सिन्हा. यह खबर अगर आपको अच्छा लगा हो तो शेयर जरुर करें.)