Breaking News

मिसेज इंडिया यूनिवर्स में मिसेज हम्बल टाइटल जीता बिहार की सपना ने

बुरा वक्त तो सबका आता हैं,
कोई बिखर जाता हैं कोई निखर जाता हैं वक्त सबको मिलता है जिंदगी बदलने के लिये जिंदगी सबको नहीं वक्त बदलने के लिये
बिहार की औरंगाबाद की रहने वाली मध्यमवर्गीय परिवार की सपना के लिये सपनों जैसा जीवन जीना कभी आसान नहीं था लेकिन अपनी हिम्मत और आत्मविश्वास की धनी साधारण सी लड़की ने कभी अपने सपनों को मिटने नहीं दिया वक्त से अपनी लड़ाई लड़ कर अपना सपना पूरा किया
एक आम जिंदगी जीने वाली सपना के साथ बुरा वक्त तब आया जब उसका शादीशुदा जीवन अचानक बिखर गया मुश्किल समय में टूटने के बदले खुद को नये सिरे से तैयार किया अपने लिये नयी मंजिलों को तय कर उस राह में बढ़ गयी खुद की  व्यवसायी क्षमता को निखार कर अपना काम शुरू किया
ग्लैमर की दुनियाँ ने सपना को हमेशा अपनी ओर खींचा था एक दिन वो लम्हा आया जब उनकी मुलाकात देवाँजनि मित्रा से हुयी जँहा उन्हें मिसेज इंडिया प्रतियोगिता के बारे में पता चला मगर मन में एक डर था जो देवाँजनि के साथ बात करके दूर हो गया
7दिनों के लिये प्रतियोगिता में बिताया वक्त बहुत बेशकीमती मानती है उनका कहना है की इंसान इतने बड़े मंच पर पहुँच जाये तभी उसकी जीत हो जाती है विजेता के फैसले को सहर्ष स्वीकार किया फिर वो लम्हा आया जब उनका नाम मिसेज हम्बल टाइटल के लिये चुना गया
अपनी हार को जीत में बदल देने की सपना का आत्मविश्वास एक अनूठी मिसाल है अपनी सफलता का श्रेय सपना उन सबको देती है जिनको उनपर विश्वास था साथ ही अपने आत्मबल को जिसकी वजह से वो खुद को मुश्किलों से बाहर निकाल  सकी विशेष धन्यवाद अपनी मेंटर देवँजनि को देती है जिनके मार्गदर्शन से ये मंजिल उनको मिली