Breaking News

जमुई : अशोक नगर भवन में जिलास्तरीय कार्यशाला सह प्रशिक्षण शिविर आयोजित



 जमुई  (इनपुट सहयोगी) : शुक्रवार को जमुई जिले के स्थानीय अशोक नगर भवन में जिला पदाधिकारी धर्मेन्द्र कुमार ने कृषि प्रोद्योगिकी प्रबंध अभिकरण (आत्मा ) जमुई द्वारा  आयोजित रबी अभियान 2018 के मद्देनजर जिला स्तरीय कार्यशाला सह प्रशिक्षण शिविर का विधिवत उद्घाटन किया। मौके पर जिला पदाधिकारी धर्मेन्द्र कुमार ने कहा कि इस अभियान को सफल बनाना हमारी प्राथमिकता है। उन्होंने वर्षापात की कमी का जिक्र करते हुए कहा कि खरीफ फसल के नुकसान की भरपाई हमें रबी फसल से करनी है।उन्होंने जिले भर से आये हुए किसानों से कहा कि हम लोगों के द्वारा जो आज का वर्कशॉप रखा गया है उसका उद्देश्य है रवि की फसल। मौके पर जिला पदाधिकारी ने कहा कि अभी हम लोग के पास आसन्न संकट जो है वह हम लोग देख रहे हैं। रवि की बातें तो हम लोग के द्वारा बाद में होगी पहले हम लोग इस समय इस सीजन का धान की है उसकी बातें हो जाए। तो जैसा कि आप सभी लोग देख रहे होंगे कि धान की फ़सल इस बार अच्छी नहीं हो पा रही है। आपके पास इसका जो भी है सबसे बड़ा रीजन है कि हम लोग के यहां पर बारिश नहीं हुई है। प्रत्येक स्थानों पर देखा तो वहां पर एक शेर भी पानी है लेकिन और बहुत से तो ऐसे स्थान हैं जहां पर कि बिल्कुल ही पानी नहीं है। सितंबर माह में जो बारिश होनी चाहिए थी वह बरसात नहीं हुई है। उन्होंनो कहा कि बिभिन्न अखबारों में बार-बार आ रहा है कि बहुत से हमारे फार्मर कहते हैं जो खेत में फसल उसको हटा करके गाय गोरु को दे दे रहे हैं। आप सभी लोग जानते हैं बिहार में एग्रीकल्चर का इंपॉर्टेंट क्या है वह फिर से रिपीट करने का नहीं है कि क्या उसके ऊपर आबादी डिपेंडेंट है और क्या लागत है वह सब लोग जानते हैं। मोदी सरकार की बहुत सी योजनाएं हैं कि उनसे उनका दुख हम लोग घटा सकते हैं। आपकी क्या-क्या योजनाएं हैं वह आप सभी लोग जानते हैं। डीजल सब्सिडी के अनुदान में लगभग 35000 फार्म आये जिसकी राशि बांट दिया गया है यह अच्छी खबर है। साथ ही श्री कुमार ने कृषि अधिकारियों , कर्मियों तथा किसानों का क्षमतावर्धन करते हुए कहा कि रबी अभियान को सफल बनाने में जिला प्रशासन हर स्तर पर सहयोग करेगा। जिला कृषि पदाधिकारी किरण किशोर प्रसाद , वेदप्रकाश , डॉ. प्रमोद कुमार सिंह आदि ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।  इस मौके पर बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।