Breaking News

पटना : अपहृत डॉक्टर पुत्र की गोली मारकर हत्या


पटना (अनूप नारायण)
: पटना के रूपसपुर इलाके से डॉक्टर शशिभूषण प्रसाद गुप्ता के 15 वर्षीय बेटे सत्यम का अपहरण करने के बाद अपराधियों ने फोन कर 50 लाख की फिरौती मांगी थी। पुलिस उसकी तलाशी के लिए छापेमारी कर ही रही थी कि उसका शव पटना के इंजीनियरिंग कॉलेज के पास खेत से बरामद हुआ है। उसकी हत्या चाकू से गोद-गोदकर गुरुवार को ही कर दी गई थी और उसके बाद अपहर्ता फिरौती की मांग कर रहे थे।
सत्यम गुरुवार को पढ़ने के लिए कोचिंग गया था और उसके बाद शाम से ही वह लापता था। बताया जा रहा है कि कोचिंग में लड़की से छेड़खानी की घटना के बाद कुछ लड़कों के साथ उसकी बहस हुई थी और उसके बाद सत्यम को कोचिंग से बाहर किया गया था। दोस्तों ने उसे मामला सुलझाने के नाम पर बुलाया था। फिर उन्हीं में से तीन दोस्तों ने उसका अपहरण कर लिया था और उसके ही मोबाइल से उसके पिता से फिरौती मांगी थी।
इसके बाद थाने में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस हरकत में आई और उसकी बरामदगी के लिए छापेमारी कर ही रही थी कि शनिवार की दोपहर बाद उसका शव इंजीनियरिंग कॉलेज के बाहर खेत में पड़ा मिला है। चाकू से गोद-गोदकर उसकी हत्या की गई है। इस घटना के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है।
शुक्रवार को फोन कर मांगी थी फिरौती, दी थी धमकी
अपराधियों ने शुक्रवार को डॉक्टर को फोन कर 50 लाख की फिरौती मांगी थी और पुलिस को बताने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। पहले गुमशुदगी और फिर अपहरण की जानकारी मिलने के बाद पटना पुलिस हरकत में आई लेकिन जबतक पुलिस सत्यम को बचाने की कोशिश करने के लिए छापेमारी कर रही थी अपराधियों ने उसकी हत्या कर दी।
पटना के रूपसपुर की अपर्णा बैंक कॉलोनी में रहने वाले डॉक्टर शशिभूषण प्रसाद गुप्ता के बेटे सत्यम का गुरुवार की शाम अपहरण कर लिया गया। शुक्रवार को अपहर्ताओं ने डॉक्टर को फोन कर 50 लाख की फिरौती मांगी । मामले की जांच कर रही पुलिस ने मामले में छह लोगों को हिरासत में लिया और पूछताछ कर रही थी।
डॉक्टर ने बताया कि अपहर्ताओं ने शुक्रवार की सुबह उनके ही बेटे के मोबाइल से फोन कर फिरौती मांगी गई और नहीं देने पर अंजाम भुगतने की धमकी भी दी। साथ ही यहां हिदायत भी दी कि अगर मामला पुलिस तक पहुंचा तो अंजाम बुरा होगा।
इसके बाद डॉक्टर ने तत्काल रूपसपुर थाने से संपर्क किया और पुलिस को घटना की जानकारी दी। मामला संज्ञान में आते ही पटना पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। पटना पुलिस के विशेष टीम और कई थाने की पुलिस अपराधियों की गिरफ्तारी में जुट गई।
खगौल में मिला था सत्यम का लास्ट लोकेशन
पुलिस के कोथवां पहुंचने से पहले ही अपराधियों ने इलाका छोड़ दिया था। यह साफ हो चुका है कि छात्र का अपहरण कर कोथवां लाया गया था। लेकिन जैसे ही घटना की जानकारी पुलिस को मिली अपराधियों ने जगह बदल लिया। डॉक्टर के बेटे का मोबाइल भी बंद आ रहा था। पुलिस को अपराधियों का लास्ट लोकेशन खगौल मिला था। पुलिस देर रात तक खगौल में छापेमारी करने में जुटी रही।
दर्ज हुआ था गुमशुदगी का मामला
गुरुवार को देर शाम तक जब सत्यम  लौटकर घर नहीं आया तब परिजन परेशान होने लगे। परिजनों ने कोचिंग संस्थान में जाकर पता किया। कोचिंग संस्थान में बताया गया छात्र क्लास खत्म होने के बाद चला गया। काफी खोजबीन के बाद भी जब छात्र का पता नहीं चला तब परिजनों ने रुपसपुर थाना में जाकर गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया था। शुक्रवार की सुबह जब फिरौती के लिए फोन आया तब परिजनों के साथ साथ पुलिस की बेचैनी बढ़ गई।
अपराधियों द्वारा फिरौती के लिए फोन कॉल आने तक पटना पुलिस इसे किडनैपिंग नहीं मान रही थी। लेकिन परिजनों की शिकायत के बाद शुक्रवार देर रात पुलिस हरकत में आई और मामले में नया एफआइआर दर्ज किया है। जिसके बाद पुलिस दो लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ करती रही।
शुक्रवार को हुआ था बैंक मैनेजर का अपहरण, नहीं मिला सुराग
बता दें कि शुक्रवार को ही शेखपुरा से एक बैंक मैनेजर का अपहरण कर लिया गया है। बाइक से घर आ रहे बैंक मैनेजर का रास्ते से ही अपहरण कर लेने की बात सामने आई है और अबतक इस मामले में भी पुलिस तहकीकात कर रही है। बैंक मैनेजर का सामान और कुछ खोखे नालंदा से बरामद हुए हैं। इस घटना के कुछ घंटे बाद ही फिरौती के लिए डॉक्टर के बेटे सत्यम के अपहरण और फिर हत्या की खबर आई है।