Breaking News

बरहट : इंटरफ़ेस मीटिंग का आयोजन कर बाल सुरक्षा नीति पर की गई चर्चा


[चन्द्रशेखरनगर/बरहट | शुभम् कुमार]
जिले के बरहट प्रखण्ड के चन्द्रशेखरनगर स्थित प्रशिक्षण भवन में स्वयंसेवी संस्था परिवार विकास के द्वारा चाइल्ड फंड इंडिया के सौजन्य से इंटरफेश मीटिंग का आयोजन किया गया, जिसमें बाल सुरक्षा नीति पर चर्चा कि गई. 

इस अवसर पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिला बाल कल्याण समिति के आलोक कुमार ने कहा कि किशोर न्याय एवं बालकों के देखरेख अधिनियम 2015 के अन्तर्गत विशेष आवश्यकता वाले बच्चे को संरक्षण एवं प्रोत्साहन देने का प्रावधान है. यदि कहीं भी बच्चे शोषण का शिकार हो रहे हैं तो चाइल्ड लाइन के टोल फ्री नम्बर 1098 पर कॉल कर सूचना दें, उसपर यथाशीघ्र उचित कारवाई होगी. वहीं जिला बाल कल्याण समिति के सदस्य विवेकानन्द सिंह ने कहा कि बच्चों को घर पर छोटी-छोटी गलती के लिए मारे या डांटे नहीं बल्कि उसे प्यार से समझाए.  जबकि समिति के सदस्या मितांजलि घोष ने बच्चों को सुरक्षा और शिक्षा घर में देने की अपील की. वहीं सदस्य केशव मंडल ने बाल सुरक्षा के प्रति व्यापक जन जागरूकता की आवश्यकता पर बल दिया.

संस्था प्रमुख भावानंद जी ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि बाल विवाह एक अभिशाप है और इस कलंक को मिटाने में समाज के सभी लोगों को प्रयास करना चाहिए. वहीं संस्था के परियोजना प्रबंधक राजेश कुमार ने बाल विवाह के दुष्परिणामों कि जानकारी देते हुए इसे रोकने कि अपील की. संस्था के एम.आई. एस कार्डिनेटर बाल श्रम को रोकने कि अपील की और इससे बच्चों पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव को बताया.

कार्यक्रम में उपस्थित सदस्यों ने पंचायत एवं ग्राम स्तर पर गठन होने वाले बाल संरक्षण समितियों के औचित्य परवरिश योजना, बाल सुरक्षा कानून से संबंधित सवाल भी किए जिसका जवाब जिला बाल कल्याण समिति के सदस्यों ने दिया. इस मौके पर उपस्थित सदस्यों ने शपथपत्र भर कर लड़की की शादी 18 साल और लड़के की शादी 21 साल बाद कराने का शपथ लिया. इस मौके पर संस्था के LS-2 कार्डिनेटर कपिलदेव यादव, चाइल्डलाइन कार्डिनेटर अभिषेक आनंद, गोपी कुमार सहित गिद्धौर एवं बरहट प्रखण्ड के दर्जनों लोग उपस्थित थे.