Breaking News

पटना : सेवाकाल के 25वें वर्ष पर इकट्ठा हुए 94 बैच के पुलिस अधिकारी

[पटना] अनूप नारायण : बुधवार को बिहार पुलिस एसोसिएशन के केंद्रीय कार्यालय में 1994 बैच के सभी पुलिस अधिकारी अपने सेवाकाल के 25 वें वर्ष में प्रवेश पर इकट्ठा हुए। मौके पर प्रांतीय अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार सिंह ने केक काटकर खुशी का इजहार किया।

बिहार पुलिस में संघ के प्रांतीय अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार सिंह के साथ राजगीर के विधायक रवि ज्योति, कृपाशंकर जयसवाल, रघुनाथ जी, भास्कर जी, विजय कुमार, शालिग्राम कुमार, रजनीश प्रकाश पांडेय, जितेंद्र कुमार, ईश्वर नंद पाल, केसरी चंद, कृष्ण कुमार गुप्ता, तेज नारायण पासवान, रानी कुमारी, ममता कुमारी, बंदना कुमारी सहित काफी संख्या में पुलिसकर्मी इकट्ठा हुए।

सभी ने एक दूसरे को केक खिलाया। मौके पर सभी को बताया गया कि बिहार पुलिस के साथ झारखंड पुलिस के तमाम पुलिसकर्मी पुलिस विभाग की एक पहचान है और आने वाले दिनों में बिहार पुलिस विभाग में इनके उत्कृष्ट कार्यों की गिनती होती रहेगी।
94 बैच के पुलिस अधिकारी बिहार एवं झारखंड में अपने कार्य पर बेहतर पहचान बनाए है। साथ ही उन साथियों को याद किया गया जो एक साथ सेवा में आए थे और कानून की रक्षा, जनता की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दिए।

उन सभी शहीदों को याद करते हुए सभी ने सहृदय श्रद्धांजलि व्यक्त किया। मृत्युंजय सिंह ने कहा की आज का दिन मेरी ज़िंदगी का एतिहासिक दिन है। आज ही के तारीख़ 5 सितम्बर 1994 को पटना के BMP-5 के ग्राउंड में अपने नौकरी का प्रमाण पत्र पाया एवं सत्य-निष्ठा के साथ समाज-क़ानून की रक्षा का शपथ लिया और अपना कर्तव्य के रास्ते पर चल पड़ा।

आज यानी 5 सितंबर को अपनी सर्विस के 24 साल पूरे हो गए। सेवाकाल के प्रारम्भ से आज तक अनेकों पुलिस विभाग में वरीय के साथ कनीय पुलिसकर्मी के साथ कर्तव्य के दौरान काफ़ी कुछ सीखा और आगे भी सीखता रहूँगा। ज़िंदगी में हर व्यक्ति से हमने सीखा चाहे वो हमसे उम्र में बड़ा हो या छोटा हो, ज्ञान अर्जन सभी से किया।

इस शुभ अवसर पर अपने माता-पिता, गुरुओं, मित्रों, बड़े-छोटे भाइयों को चरण स्पर्श और शत-शत नमन, जिन्होंने मुझे इस काबिल बनाया। 1994 बैच के सभी साथियों को हार्दिक बधाई। साथ ही बिहार पुलिस एसोसीएशन के तमाम सदस्यों को भी हृदय से बधाई। सभी पुलिस साथियो को सच्ची श्रद्धांजलि जिन्होंने अपने कर्तव्य निर्वाहन के दौरान अपने प्राण की आहुति दे दी।