Breaking News

समकालीन चित्रकारी के क्षेत्र में बिहार का मान बढ़ा रहीं मीनाक्षी झा



[पटना]     ~अनूप नारायण
मीनाक्षी झा बनर्जी पेशे से  एक समकालीन चित्रकार हैं, बिहार (भारत) में पिछले 20 सालों से मिथिला के सरलीकृत तत्वों की खोज करती हुईं  काम कर रही हैं , जो इस क्षेत्र के लोक चित्रों में एम्बेडेड हैं। मिथिला के पारंपरिक तत्वों के साथ उनके प्रयोगों का विकास,  खुद की हस्ताक्षर शैली के रूप में अब पहचानी जा रही है, जहां भावनाओं, , तत्वों, जटिलताओं और परंपराएं वर्तमान विषयों, आधुनिक माध्यम और समकालीन कौशल की परिपाटी मे विलीन  हो जाती हैं।
वह अपनी ब्रश से सामाजिकता और समकालीनकरण का सामान रूप से जवाब देती है।
कई लेयरिंग, के अलावा सुक्ष  और जटिल विवरण उनके पैलेट  और मूड का सार है।


उनकी कृतियाँ  सरकारी और कॉर्पोरेट संगठनों मे प्रदर्शित हैं | बुद्ध इंटरनेशनल म्यूजियम, पटना, भारतीय रेलवे, हवाई अड्डा  प्राधिकरण, जीवन बीमा निगम, यूनिसेफ, आईटीसी, इफको दिल्ली,  आदि मे उनकी कुछ बड़ी कृतियों का संग्रह है । भारतीय तेल, कल्याणपुर सीमेंट, इलाहाबाद बैंक, भारतीय सेना जैसे संगठनों ने भी उनके  कार्यों का संरक्षण किया है। हाल ही में, उनके कामों में से एक को ऑस्ट्रेलिया में कवर के रूप में प्रकाशित किया गया है , अतुल्य भारत अभियान  के अंतर्गत,  औपचारिक रूप में, संयुक्त रूप से दोनों देशों के पर्यटन मंत्रालय द्वारा |  अब वो ऑस्ट्रेलिया के राष्ट्रीय पुस्तकालय का एक हिस्सा। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई निजी संग्रहों में उनके  कुछ पेंटिंग हैं।

गौरतलब है कि, वह जिस कार की  सवारी करती है, जिसे उन्होने  2015 में पेंट किया था , और नाम रखा था बहुरुया, पटना के सड़को पर "आर्ट फॉर आल" का सन्देश प्रवाहित करती दिखती हैं|

मीनाक्षी का  काम ऑनलाइन पोर्टल पर भी उपलब्ध है जैसे कि mojarto और स्टोरीलतद|  उनके संग्रहकर्ता यूरोप, अमरीका, कनाडा अफ्रीका और भारत के प्रमुख महानगरों से हैं, जो नियमित रूप से इंटरनेट के माध्यम से उनके  कार्यों को संरक्षित करते हैं।

वह बिहार कला सम्मान  2013 सहित कुछ अन्य विशिस्ट पुरस्कारों से सुशोभित हैं।

राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मीडिया द्वारा व्यापक रूप से अपने प्रयोगों के लिए उन्हे काफी कवर किया गया है, जिसे Google और Youtube पर आसानी से देखा जा सकता है
अपने निजी जीवन में, उन्होने  कहानीघर नामक एक सामाजिक उद्यम स्थापित किया है, जहां वो बचपन को संरक्षित करने में लगी हैं| वह कहती है, हमने समाज से बहुत कुछ लिया है। '' इसका भुगतान करने का वक्त है '' वह कहानीघर  के माध्यम से समाज को वापस भुगतान कर रही हैं , जो पिछले तीन  सालों से एक ऐसे संगठन के रूप में उभरा है, जो बच्चों और उनके आसपास के समाज में संस्कृति को संगठित और संरक्षित करता है। उनकी कमाई का प्रमुख हिस्सा, कहानीघर  के पोषण के लिए समर्पित है|
कहानीघर मे फिल्म शो, कला सत्र, संगीत संगोष्ठी, रचनात्मक शिविर, गणित कक्षाएं और कई ऐसी गतिविधिहिट होती हैं निशुल्क!