Breaking News

लोकतंत्र की मजबूती व देश के पुनर्निर्माण के ध्येय के साथ करें पत्रकारिता : राकेश प्रवीर


[पटना]   ~अनूप नारायण
नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स की सारण जिला इकाई के एक वर्ष पूरे होने के अवसर पर रविवार को परिचर्चा का आयोजन किया गया. परिचर्चा को संगठन के प्रदेश अध्यक्ष राकेश प्रवीर, पूर्व अध्यक्ष आरके विभाकर, सचिव प्रभात भारद्वाज ने संबोधित किया.
वर्तमान परिपेक्ष्य में पत्रकार और पत्रकारिता विषयक परिचर्चा को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष राकेश प्रवीर ने कहा कि पत्रकारिता अभी 200 वर्षों की भी नही हुई. आजादी की लड़ाई में पत्रकारिता का अहम योगदान रहा है. स्वतंत्रता सेनानी व पत्रकार देश की आजादी के लिए पत्रकारिता करते थे. आजादी के बाद पत्रकारिता का उद्देश्य बदला. लोकतंत्र की मजबूती व देश के पुनर्निर्माण के ध्येय के साथ पत्रकारिता होने लगी. आजादी के बाद भारतीय मीडिया ने 1970 तक सही दिशा में बढ़ रहे थे. उसके बाद भूमिका बदली एक राजनीतिक अस्थिरता का माहौल बदला. 1975 आपात काल के दौर में सत्ता से लोहा लेने वाली पत्रकारिता का उभार देखने को मिला. भारतीय पत्रकारिता पूरी बुलंदी के साथ आगे बढ़ी. 1990  में पूरी दुनिया मे एक बड़ा बदलाव आया वैश्विक शक्तियां आगे आई. मंडल कमीशन के बाद पत्रकारिता में बदलाव होने लगा. इसके बाद कमिटमेंट के जगह कमेंट की पत्रकारिता की शुरुआत होने लगी. आगे पत्रकारिता का दौर भी बदलता है. टेक्नोलॉजी के आने के बाद पत्रकारिता के विभिन्न आयामों में भी व्यापक बदलाव देखने को मिला.
विषय प्रवेश प्रदेश उपाध्यक्ष सत्येंद्र तिवारी ने कराया, संचालन कार्यालय सचिव सुरभित दत्त और धन्यवाद ज्ञापन जिला उपाध्यक्ष कमलाकर उपाध्याय ने किया.

इस अवसर पर जिलाध्यक्ष ठाकुर संग्राम सिंह, महासचिव राकेश कुमार सिंह, कमलाकर उपाध्याय, संजय कुमार पांडेय, धनंजय सिंह तोमर, धर्मेन्द्र रस्तोगी, मनोरंजन पाठक, डॉ सुनिल प्रसाद, कबीर, विनीत कुमार, मनोकामना सिंह, कुलदीप महासेठ, बसंत सिंह, पंकज श्रीवास्तव, अमन कुमार, बिपिन कुमार मिश्रा, दिनेश कुमार सिंह, तीर्थराज शर्मा, तारकेश्वर प्रसाद,  बसंत कुमार सिंह, नागेंद्र ओझा, गणपत आर्यन, रौशन कुमार, विकास कुमार, विजय कुमार गुप्ता,  आदि उपस्थित थे.