Breaking News

सलामत है हमारी सना, 31 घंटों बाद निकाली गई बोरवेल में फंसी बच्ची

मुंगेर/पटना (सेंट्रल डेस्क/सुशान्त सिन्हा) : पिछले 31 घंटों से जिन्दगी-मौत के बीच हो रही जद्दोजहद कि जंग को 3 साल की नन्हीं सी जान सना जीत गई है। देशवासियों कि दुआओं का असर हुआ। एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, पुलिस प्रशासन और हर एक वो शख्स जिसने मुंगेर में बोरवेल में फंसी बच्ची को सकुशल बाहर निकलने में हुए रेस्क्यू अॉपरेशन में अपना योगदान दिया, की मेहनत कामयाब हुई और  बोरवेल से सना को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया।

नन्हीं सी इस जान के जज्बे को सभी सलाम कर रहे हैं। सना के बोरवेल में फंसे होने के दौरान उसके माता-पिता लगातार उससे बातचीत कर रहे थे। रेस्क्यू टीम द्वारा बच्चे को सकुशल बाहर निकाले जाने की खबर सुनते ही पूरे देश में खुशी कि लहर छा गई। सभी को तसल्ली और सुकून मिला।
बच्ची तक पहुँचते ही बचाव दल ने बच्ची को पानी पिलाया। एनडीआरएफ की टीम ने बच्ची को बाहर निकाला। वहां पहले से ही एम्बुलेंस खड़ी थी जिससे सना को अस्पताल ले जाया गया।

इसके पहले प्रशासन ने घटनास्थल से अस्पताल तक के रास्ते में ट्रैफिक को अपने कंट्रोल में ले लिया था ताकि अस्पताल ले जाने के क्रम में असुविधा न हो।

रेस्क्यू टीम के सदस्यों ने बताया कि बच्ची पूरी तरह सुरक्षित है। बोरवेल के अंदर शरीर में मिट्टी लग जाने की वजह से वो लाल नजर आ रही थी। 
सना की कुशलता के लिए देशभर में दुआएं की गईं। बता दें कि सना को बाहर निकालने के लिए रांची से आर्मी को भी बुलाया गया था। बचाव कार्य के दौरान बारिश भी बाधा बनी लेकिन बचाव कर्मियों ने बिना रुके इसे सम्भव कर दिखाया।