Breaking News

गिद्धौर : घट रहा है इलाके का जलस्तर, चापाकल भी दे रहे जवाब




[न्यूज डेस्क | अभिषेक कुमार झा]  :

 मौसम बारिश का है, फिर भी गिद्धौर के कुछ इलाकों में रह रहे लोगों को पानी के लिए मोहताज होना पड रहा है। बारिश के मौसम में भी पानी की किल्‍लत सामने आना स्थानीय किसानों के लिए परेशानी खड़ी कर रही है।

अपेक्षा से कम बारिश होने के कारण धीरे धीरे जलस्तर नीचे जा रहा है। लिहाजा गिद्धौर प्रखंड के विभिन्न जगहों पर लगे नीजि व सरकारी चापाकल पानी उगलने में असक्षम् हैं। सरकारी विभाग द्वारा जगह-जगह पर लगाये गए चापाकल सूख चुके हैं और उनसे पानी की जरूरत पूरी नहीं हो पा रही है. हलांकि इधर कुछ दिनों से हो रहे हल्कि बारिश ने तो कुछ हद तक किसानों की चिन्ता कम की है, पर इस बार की फसल अच्छी आमदनी दे पाएगी, ये कहना थोड़ा कठिन है ।
स्थानीय कुछ बुद्धिजीवियों का मत है कि गिद्धौर के बेसमेंट एरिया में पानी संग्रहित नहीं होने से जुलाई माह में भी भीषण जलसंकट से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को जूझना पड़ रहा है। जो स्थ्‍ति अप्रैल-मई की भीषण गर्मी में हुई वो जुलाई में भी सामने आ रही है। बारिश हो तो रही है लेकिन जलस्तर में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है.
उलाय नदी के तट पर बसे गिद्धौर के इलाके में बारिश के दिनों में जलस्तर का घटना काफी चिन्ता का विषय है।