Breaking News

बिजनेस के साथ ही फैशन और सामाजिक क्षेत्र में भी पहचान बनायी देवजानी मित्रा ने

पटना (अनूप नारायण) : जानी मानी बिजनेस वुमेन देवजानी मित्रा न सिर्फ इवेंट के क्षेत्र में धूमकूतु की तरह छायी हुये हैं ,बल्कि फैशन और सामाजिक क्षेत्र के क्षितिज पर भी सूरज की तरह चमक रही है। उनकी ज़िन्दगी संघर्ष, चुनौतियों और कामयाबी का एक ऐसा सफ़रनामा है, जो अदम्य साहस का इतिहास बयां करता है। अपने कार्यकाल में उन्होंने कई चुनौतियों का सामना किया और हर मोर्चे पर कामयाबी का परचम लहराया।

        पश्चिम बंगाल के दुर्गापूर में जन्मी देवजानी मिश्रा के पिता श्री दिलीप कुमार मित्रा और मां श्रीमती केतकी मित्रा घर की लाडली बेटी को उच्चअधिकारी बनाने का ख्वाब देखा करते थे हालांकि देवजानी की रूचि इस ओर नही थी। मनीष मल्होत्रा और सव्यसाची मुखर्जी से प्रभावित होने की वजह से देवजानी उन्हीं की तरह फैशन के क्षेत्र में अपनी पहचान बनाना चाहती थी। वर्ष 2009 में आसनसोल से बीएससी की पढ़ाई पूरी करने के बाद देवजानी एसपिराटिम कनसलटेंसी की स्थापना की जिसके द्वारा उन्होंने कई लोगो को अलग-अलग क्षेत्रों में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराये।

दुनियां में बहुत सी ऐसी बातें होती हैं जो नामुमकिन नज़र आती हैं …. लेकिन यदि इंसान हिम्मत से काम करे और वो सच्चा है ……तो जीत उसी की होती है। देवजानी मित्रा फैशन के क्षेत्र में भी अपनी पहचान बनाना चाहती थी और इसी को देखते हुये उन्होंने आइआइएफटी कोलकाता से तीन वर्ष का एडवांस कोर्स पूरा किया। इसी दौरान देवजानी की मुलाकात आसनसोल में कोकाकोला कंपनी में काम कर रहे वरीय अधिकारी आशीष कुमार झा से हुयी। दोनो ने निश्चय किया कि वह साथ में इवेंट कंपनी की स्थापना करेंगे। इसी बीच उन्होंने साथ मिलकर आइआईएफटी जमशेदपुर में हुये फैशन एवेंट को सफलतापूर्वक आर्गेनाइज किया।

वर्ष 2010 में आंखो में बड़े सपने लिये देवजानी मित्रा अपने मित्र आशीष कुमार झा के साथ राजधानी पटना आ गयी और इंवेट कंपनी ड्रीम्स एसपिरेशन कंपनी की स्थापना की। कंपनी की ओर से आयोजित पहला शो आसनसोल क्लब में
मानसून वाल किया गया जिसे लोगो की भरपूर सराहना मिली। इसके बाद मणिपाल में देवजानी और आशीष ने बांबे राकर्स का आयोजन किया जिससे उनकी इवेंट कंपनी को काफी ख्याति मिली। वर्ष 2011-12 में  देवजानी
मित्रा की कंपनी की ओर से राजधानी पटना में सीसीडी की स्थापना किया जाना उपलब्धी रही। सीसीडी के शुभारंभ में आये मशहूर सूफी गायक सदाफ फरीदी ने देवजानी और आशीष की कंपनी की काफी तारीफ की। इसके बाद राजधानी पटना के गोल्ड जिम के ओपनिंग में भी देवजानी मित्रा की कंपनी ने सराहनीय भूमिका अदा की।

देवजानी मित्रा महिला सशक्तीकरण की दिशा में काम करना चाहती थी और इसी को देखते हुये वह वर्ष 2016 में लायंस क्लब के वीरांगना से जुड़ गयी। देवजानी का मानना है अब जरूरत है महिलाओं को सशक्त बनाने की ,अब हर किसी
को जगना होगा, और सबको जगाना होगा ,बहुत खो लिया नारी ने, अब उसे उसका हक दिलाना होगा स्त्रियों को खुद इसकी शुरुआत करनी होगी स्त्रियों को खुद, स्वयं को आगे बढ़ाना होगा उम्मीद है जल्द हीं हालात बदलेंगे उम्मीद है अब वक्त करवट लेगा और नहीं रहेगी किसी स्त्री के चेहरे पर शिकन। देवजानी मित्रा पूर्व राष्ट्रपति अबुल कलाम आजाद से काफी प्रभावित रही हैं और उनके स्वयं सेवी संस्थान व्हाट कैन आई गिव से जुड़कर शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय भूमिका अदा की है।
   देवजानी मित्रा बिहार में फैशन और मॉडलिंग को वैश्विक मंच पर ले जाना चाहती थी और इसी को देखते हुये उन्होंने पटना में बिजनेस स्कूल की स्थापना की। देवजानी मित्रा ने बताया कि बिजनेस स्कूल के द्वारा लोगो को आई स्पीक , आई ग्लैम , आई ग्रुम और आई रिच समेत कई विद्याओ की ट्रेनिंग दी जाती है। देवजानी मित्रा ने अभी हाल ही में मिसेज इंडिया सी इज इंडिया के ऑडिशन को लखनऊ शहर में आर्गेनाइज कराया है। देवजानी मित्रा बिहार  के फैशन को वैश्विक मंच पर ले जाने का सपना संजाये हुये है और उन्हें काफी हद तक कामयाबी भी मिली है। देवजानी मित्रा ने बताया कि भले ही उनकी जन्मभूमि पश्चिम बंगाल रही है लेकिन उनकी कर्मभूमि बिहार है। देवजानी मित्रा आज कामयाबी की बुलंदियो पर है। उनके सपने यूं ही पूरे नही हुये , यह उनकी कड़ी मेहनत का परिणाम है। मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है, हर पहलू ज़िन्दगी का इम्तेहान होता है। डरने वालो को मिलता नहीं कुछ ज़िन्दगी में, लड़ने वालो के कदमो में जहां होता है। देवजानी ने बताया कि वह अपनी कामयाबी का पूरा श्रेय अपने माता-पिता के साथ ही बिजनेस पार्टनर आशीष कुमार झा को देती है जिन्होंने उन्हें हमेशा सपोर्ट किया है।