Breaking News

सारण में नहर का बांध टूटा, कई एकड़ खेतों में फैला पानी

छपरा (अनूप नारायण) : छपरा जिले के इसुआपुर प्रखंड के डाटरा गांव के निकट नहर का बांध टूट जाने से कई एकड़ खेतों में पानी फैल गया है। क्षेत्र के मदारपुर से सोनपुर तक जाने वाली नहर इसुआपुर के डाटरा गाँव के निकट पानी छोड़े जाने के साथ ही टूट गयी। जिससे सैकड़ो एकड़ खेतो में जलजमाव की स्थिति बन गई है।जबकि महज एक वर्ष पहले ही इस नहर का जीर्णोद्धार किया गया था।जीर्णोद्धार के क्रम में नहर को सीमेंटेड भी किया गया था।

मरम्मती के बाद पहली बार सिंचाई के लिये छोड़ा गया था पानी, ग्रामीणों मे आक्रोश
गंडक बिभाग द्वारा लाखों रूपये खर्च कर इस नहर को खेती के लिए उपयुक्त बनाने का दावा किया गया था। लेकिन नहर में पहली बार ही पानी छोड़े जाने से यह टूट गया।निर्माण में अनियमितता की पोल पहली बार ही नहर में पानी आने से खुलती प्रतीत हो रही है। बताया जाता है कि पानी के बहाव से सड़क भी क्षतिग्रस्त हो गया है, जिससे स्थानीय लोगो मे आक्रोश है।

मदारपुर से शिवगंज जाने वाली मुख्य नहर की बांध डटरा ग्राम में बीती रात ध्वस्त हो गई।सिचाई हेतु नहर में प्रथम चरण में गंडक बिभाग द्वारा पानी छोड़ी गई थी।पानी का तेज़ बहाव नहर का बांध नही झेल पाया और बांध ध्वस्त हो गया। बिना बरसात के ही भारी जल जमाव को देख ग्रामीण आश्चर्य में पड़ गए।

निर्माण कंपनी पर लगाया आरोप, किया नारेबाजी
टूटे हुए बांध को देख ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त हो गया और वे गंडक विभाग और निर्माण कंपनी के खिलाफ जमकर नारे बाजी करने लगे ।देखते ही देखते पुलिस प्रशासन की टीम मौके पर पहुच मामले को शान्त कराने में जुट गई और अनुमंडल पदाधिकारी और कनीय अभियंता को सूचना दी गयी। सूचना मिलते ही प्रशासन सहित  अंचलाधिकारी अश्विनी कुमार और थानाध्यक्षय अरबिन्द पासवान भी मौके पर पहुंचे।

ग्रामीणों ने निर्माण कंपनी और सरकारी कर्मियो पर आबंटित राशि के बंदरबाट का आरोप लगाते हुए कहा कि नहर के पक्कीकरण में भारी अनिमिकता बरती गई है। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि प्राक्कलन 6 इंच मोटाई में पक्कीकरण का था जबकि उसकी जगह पर मात्र एक इंच पक्कीकरण कर लाखों का घोटाला कर लिया गया है। ग्रामीणों ने बांध की मरमती और निर्माण कंपनी द्वारा कराए गए कार्यो की जांच कर कार्रवाई की मांग की है।