Breaking News

गिद्धौर : दिव्यांगता प्रमाणीकरण शिविर में हुई दिव्यांगजनों की जांच

[gidhaur.com | News Desk] :- बिहार सरकार के समाज कल्याण विभाग द्वारा जमुई जिले के तमाम प्रखंडों में दिव्यांगता प्रमाणीकरण को लेकर पिछले माह शिविर लगाए गए। इसी कड़ी से जुड़े गिद्धौर के दिग्विजय सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में मई महीने की 24 तारीख को शिविर लगाकर सैंकडों दिव्यांगों की जांच की गई।

हलांकि आयोजित इस शिविर में निरीक्षण के लिए प्रखंड के किसी भी अधिकारी को नहीं देखा गया। पर शिविर में दिव्यागों के प्रति समर्पित जांचकर्ताओं बताया कि 40 प्रतिशत से अधिक विकलांगता वाले दिव्यांगों को ही सरकारी लाभ दिए जाने का प्रावधान है, जमुई से आए हम और हमारी टीम निष्पक्ष रुप से जांच कर दिव्यांगों का प्रमाणीकरण कर रहे हैं।

गिद्धौर के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर आयोजित इस दिव्यांगता शिविर में मौरा, सेवा, रतनपुर, कोल्हुआ आदि पंचायतों से सैंकडों की संख्या में दिव्यांग जन पहुँचे। साथ ही इस शिविर में मौरा पंचायत के मुखिया कान्ता सिंह, एवं सेवा पंचायत के मुखिया परमेश्वर पंडित अपने-अपने पंचायत के दिव्यांगों को बेहतर सुविधा मुहैया कराने को लेकर प्रयासरत दिखे ।
बिहार सरकार के समाज कल्याण विभाग के पहल से 24 मई को गिद्धौर में आयोजित इस शिविर में दिव्यांगों के जांचोपरान्त राज्य आयुक्त नि: शक्तता बिहार द्वारा निर्गत विकलांगता प्रमाण पत्र उपलब्ध कराया जाएगा।
वहीं शिविर के दौरान वोलंटियर के रूप में सामाजिक संस्था मिलेनियम स्टार फाउंडेशन के सदस्यों ने संस्थापक-अध्यक्ष सुशान्त साईं सुंदरम् के नेतृत्व में अपना सार्थक योगदान दिया। फाउंडेशन के अभिषेक कुमार झा, अक्षय कुमार सिंह, राजीव कुमार पासवान, नितेश कुमार सिंह, पंकज कुमार, प्रिंस कुमार एवं रामविलास पासवान ने यथासंभव दिव्यांगजनों की सेवा-सहायता की। 
बता दें, शिविर में प्रमाणीकरण को लेकर जमुई से आए डॉक्टरों की टीम में शामिल डॉ. धनिश कुमार, डॉ. ब्रजभूषण कुमार, डॉ. राजेश कुमार एवं डॉ कौशल ने आयोजित उक्त शिविर में अलग-अलग 6 काउंटर बनाकर आंख, कान, गला, हाथ, पैर से दिव्यांग लोगों की जांच की।

शिविर में गिद्धौर प्रखंड अंतर्गत 8 पंचायतों के वैसे दिव्यांगों ने भाग लिया जिन्होंने पहले कभी अपना प्रमाणीकरण नहीं कराया था।
उक्त शिविर के समुचित संचालन में बुनियाद केंद्र के संजीव जी, अरुंधती जी ने अपना सक्रीय योगदान दिया। इस दौरान की गतिविधियों पर अस्पताल के चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. रामस्वरूप चौधरी विशेष दिशा-निर्देश देते दिखे।
दिव्यांगो की जांच कर रहे चिकित्सकों ने बताया कि जमुई जिले के प्रत्येक प्रखंड में विकलांगता शिविर आयोजित कर उसे मेडिकल टीम जांच कर प्रमाण पत्र देकर संबंधित योजनाओं से जुड़ने का प्रयास किया जा रहा है।
(अभिषेक कुमार झा)
गिद्धौर | 25 मई 2018, शुक्रवार
www.gidhaur.com