Breaking News

लोगों के लिए प्रेरणा बने थानाध्यक्ष अरुण, जनसेवा के लिए करते हैं रक्तदान

[gidhaur.com | मधुबनी] :- सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं होता और न ही सेवा करने से किसी पद की मर्यादा कम होती है। कुछ इसी तर्ज पर अपनी सोच रखने वाले मधुबनी जिले में नगर थानाध्यक्ष के रूप में अपनी सेवा दे रहे अरूण कुमार राॅय पुलिस प्रशासन से जुड़े रह कर भी जनसेवा की भावना से पूरी तरह ओत-प्रोत हैं। उनके इस सेवा भावना का एक जीता-जागता मिसाल सार्वजनिक रूप से तब देखने को मिला जब प्रसव के लिए सदर अस्पताल पहुँची राजनगर की एक महिला रामशीला देवी की जान इन्होंने रक्तदान करके  बचाई। बता दें कि थानाध्यक्ष श्री राॅय विगत12 वर्षों से नि:स्वार्थ भाव से रक्तदान करते आ रहे हैं। इलाके में इनके रक्तदान की गाथा कुछ यूं प्रचलित हो गई है कि प्रशंसा करते लोगों के जुबान नहीं थकती।
क्षेत्र में 'अरुण कुमार राय' एक ऐसा नाम बन गया है जो जीवन को स्वयं निहारते हैं, संवारते हैं, और बिना किसी स्वार्थ भाव के अपने रक्त के हरेक बूंद को जनसेवा के लिए सुरक्षित रखते हैं। हाल ही में 10 जून 2018 यानि रविवार को वाॅटसन उच्च विद्यालय मधुबनी में ब्लड प्लस के द्वारा आयोजित एक दिवसीय स्वैच्छिक रक्तदान शिविर में भी थानाध्यक्ष अरूण कुमार राॅय ने अपनी अहम भूमिका निभाई।

ऐसा बताया जाता है कि, वर्ष 2006-07 से ही ये रक्तदाता समूह से जुड़कर प्रत्येक वर्ष 3-4 बार अपना रक्तदान कर समाज की सेवा कर रहे हैं। नगर थानाध्यक्ष अरूण कुमार राॅय अपने सेवा काल में जमुई जिले के झाझा थाना में एस.एच.ओ की पद को सुशोभित कर चूके हैं।
आज के दौर में निजी स्वार्थ के लिए जहां अपनों के द्वारा अपनों का ही रक्त बहाना आम बात हो गई है, अपना खून देकर निःस्वार्थ भाव से दूसरों की जान बचाने वाले नगर थाना अध्यक्ष अरुण कुमार राय अपने इलाके के युवाओं के लिए प्रेरणास्त्रोत बन गए हैं।
पुलिस सेवा में आने के बाद जब ये भागलपुर में पोस्टेड थे तब थाना के कुछ दूर पर बने मेडिकल काॅलेज में जाकर स्वेच्छा से रक्तदान किया करते थे, और अब मधुबनी में ये कारवाँ आज भी जारी है।

(अभिषेक कुमार झा)
न्यूज डेस्क  | 14/06/2018, गुरूवार
www.gidhaur.com