Breaking News

जानिए क्यों मुकदमेबाजी पर उतर आई हैं भोजपुरी की दो टॉप अभिनेत्रियां


Gidhaur.com:(पटना):- 1 जून को भोजपुरी फिल्म पटना वाली दुल्हनिया ले जाएंगे बिहार में रिलीज हुई फिल्म के नायक नवोदित हैंं, संभवतः वह इस फिल्म के फाइनेंसर भी हैं।फिल्म की मुख्य नायिका कल्पना शाह है, जबकि फिल्म में दूसरी नायिका की भूमिका में है गुंजन पन्त। जानकार बताते हैं कि फिल्म कोई खास नहीं बनी है। फिल्म की शूटिंग का अधिकांश भाग पटना में हुआ है, स्थानीय कलाकारों को भी फिल्म में काम दिया गया।








अब जानिए कि इस फिल्म को लेकर विवाद कहां से शुरू हुआ....फिल्म की मुख्य अभिनेत्री कल्पना शाह खुलेआम फिल्म की सेकंड लीड अभिनेत्री गुंजन पंत और फिल्म के प्रचारक संजय भूषण पटियाला पर आरोप लगाते हुए कहती हैं कि जानबूझकर उनके स्टारडम को कम करने के लिए फाइनेंसर को बरगलाकर फिल्म के प्रचार-प्रसार और पब्लिसिटी मटेरियल से उन्हें आउट कर दिया गया साथ ही साथ फिल्म में भी छेड़छाड़ की गई। यह सब कुछ गुंजन पंत का किया-धरा है। इस फिल्म में एक भूमिका में नजर आने वाली पटना के अंशिका सिंह भी कल्पना शाह के सुर में सुर मिलाते हुए खुलेआम गुंजन पंत पर वही आरोप दोहराती हैं जो कल्पना से पहले लगा चुकी है।
अब जानिए कि मामला कहां से आगे बढ़ा गुंजन पंत के खिलाफ यह सब कुछ 2 दिन पहले से चल रहा है जैसा कि गुंजन का कहना है उन्होंने पूरे मामले को दरकिनार करने की कोशिश की लेकिन जब सोशल मीडिया पर उनकी छवि को लेकर तरह तरह के आरोप लगने लगे उसके बाद आज उन्होंने मुंबई में कल्पना और अंशिका सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। गुंजन कहती है कि वह इस तरह के पचड़े में नहीं पड़ना चाहती जब पानी सर से ऊपर हो गया तो मजबूरी में उन्हें कानून का सहारा लेना पड़ा,दूसरी तरफ इस मामले में संजय भूषण पटियाला का कहना है कि वे गुंजन पंत के  पर्सनल पी आर ओ हैं, इसलिए वह गुंजन के प्रचार-प्रसार पर ज्यादा जोर देते है। फिल्म प्रचारक के रुप में वह फिल्म की पब्लिसिटी और पर्सनल पब्लिसिटी को एक साथ नहीं जोड़ सकते उनके खिलाफ जो आरोप लगाए जा रहे हैं वह पूरी तरह से बेबुनियादी है, वे अपने लीगल एडवाइजर से सलाह ले रहे हैं। दूसरी तरफ अपने खिलाफ मुकदमा दर्ज होने के बाद कल्पना शाह ने बताया कि वह भी गुंजन पंत और अन्य सभी लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने जा रही हैं जो उनके खिलाफ साजिश रच रहे हैं तथा उनके कैरियर को बर्बाद करने की कोशिश में लगे है। वह चुप बैठने वाली नहीं उनके पास बहुत सारे साक्ष्य मौजूद हैं। फिल्म के निर्देशक और फिल्म के निर्माता इतना कुछ होने के बाद अभी तक सामने नहीं आए हैं। दोनों के मोबाइल पर बार-बार संपर्क साधने के बाद भी दोनों का पक्ष नहीं लिया जा सका है ।वैसे जानकार बताते हैं कि यह फिल्म निर्माण के समय से ही विवादों में रही है,अब आगे देखना है कि भोजपुरी सिनेमा की स्थापित दो अभिनेत्रियों के बीच जारी इस कानूनी लड़ाई का अंत कैसा होता है।

अनूप नारायण
 पटना
14.06.2018