Breaking News

नोटबुक पर छाप दी पाकिस्तानी लड़की की तस्वीर, CM ने DM को दिए जांच के आदेश


[gidhaur.com | जमुई] :-  स्वच्छ जमुई, स्वस्थ जमुई की परिकल्पना को साकार करने में जिला जल एवं स्वच्छता समिति ने अपने नोटबुक के कवर पेज पर पाकिस्तानी स्कूली बच्ची को ब्रांड एम्बेसडर बनाया है। बात यहीं खत्म नहीं होती, स्वच्छता मिशन से जुड़े हर प्रचार-प्रसार व जागरूकता कार्यक्रम में जिला जल एवं स्वच्छता समिति पाकिस्तानी बच्ची के तस्वीर को ही ब्रांड के रूप में पेश कर रही है।
बताते चलें कि, स्वच्छता समिति के नोटबुक के कवर पेज पर बच्ची पेंटिंग प्रतियोगिता में भाग लेते हुए पाकिस्तानी झंडा बनाती दिख रही है। जब गुगल पर सर्च किया गया तो मामला साफ हो गया। पाकिस्तान में कार्य कर रही यूनिसेफ द्वारा इस बच्ची के तस्वीर का उपयोग शिक्षा के प्रचार-प्रसार में किया जा रहा है। साथ ही पाकिस्तान में इस तस्वीर को एक ब्रांड के रूप में भी प्रयोग किया जा रहा है। 
विदित हो कि, जिला जल एवं स्व्च्छता के 10 सदस्यीय समिति के द्वारा अनुमोदन के उपरांत पाकिस्तानी बच्ची की तस्वीर के साथ नोटबुक व स्वच्छता कुंजी को प्रकाशित करवाया गया। इसी संदर्भ में स्वच्छता समिति के जिला समन्वयक सुधीर कुमार बताते हैं कि समिति के अध्यक्ष तत्कालीन डीएम डॉ. कौशल किशोर ने सदस्यों के प्रस्तावित नोटबुक को प्रकाशन की स्वीकृति दी थी।
पटना में छपी है नोटबुक व स्वच्छता कुंजी
पटना की प्रिंटिंग प्रेस सुप्रभ इंटरप्राइजेज द्वारा नोटबुक व स्वच्छता कुंजी की छपाई की गई है। जिला जल एवं स्वच्छता समिति द्वारा 5000 कुंजी व 5000 नोटबुक छापने का आर्डर इस प्रिंटिंग प्रेस को दिया गया था। प्रिंटिंग प्रेस के प्रोपराईटर शैलेश कुमार ने बताया कि 4 लाख 80 हजार रूपया कुंजी व 78400 रूपया नोटबुक की छपाई में भुगतान हुआ है। कवर पृष्ठ पर पाकिस्तानी लड़की की तस्वीर लगाने के मामले में प्रोपराईटर ने बताया कि प्रिंटिंग के पहले स्वीकृति के लिए समिति को भेजा गया था जहां से अनुसंशा मिलने के बाद छपाई की गई है।
आंगनबाड़ी केंद्र व कस्तूरबा विद्यालय में नोटबुक व स्वच्छता कुंजी का किया गया है वितरण
जिला जल एवं स्वच्छता समिति ने 5 हजार नोटबुक व 5 हजार स्वच्छता कुंजी का वितरण जिले के सभी स्कूल, आंगनवाडी केंद्रों कस्तूरबा विद्यालय के बच्चियों के बीच किया है। साथ ही स्वच्छता को लेकर आयोजित प्रतियोगिताओं में भी इस नोटबुक (कॉपी) का उपयोग समिति द्वारा अब भी किया जा रहा है। जिसमें पाकिस्तानी लड़की को ब्रांड के रूप में पेश किया गया है।
जमुई जिले में कुछ महीने पहले ही सीएम के द्वारा किया गया था इस नोटबुक और स्वच्छता कुंजी का विमोचन
सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सात निश्चय योजना के तहत जमुई जिले के लक्ष्मीपुर प्रखंड अंतर्गत काला गांव में कार्यक्रम के दौरान जिनहरा उच्च विद्यालय मैदान में खुले मंच से इस स्वच्छता कुंजी का बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ का विमोचन किया था। इस दौरान मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह भी वहां मौजूद थे।
मुख्यमंत्री ने इस मामले में DM को दिए जांच के आदेश
उक्त मामले को लेकर सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के  पत्रांक संख्या CM-232 के माध्यम से जारी किए गए प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के संज्ञान में यह मामला आते ही उन्होंने इसे गंभीरता से लिया है। साथ ही इस  मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए इस संपूर्ण मामले की जांच हेतु जमुई के DM को निर्देश भी दिए गए हैं।
CM नीतीश कुमार द्वारा जांच का निर्देश प्राप्त होने के बाद जमुई के नये जिलाधिकारी  धर्मेन्द्र कुमार ने शनिवार को इस योजना से जुड़े सभी संबंधित अधिकारियों व प्रिटिंग  प्रेस के प्रोपराइटर को अपना पक्ष रखने के लिए नोटिस किया है। सभी संबंधित लोग सोमवार को डीएम के समक्ष सबूत के साथ अपना पक्ष रखेंगे। तदुपरांत जांच प्रतिवेदन मुख्यमंत्री सचिवालय को प्रेषित किया जाएगा।
क्या है पूरा मामला
  जिला जल स्वच्छता समिति द्वारा स्कूली बच्चों के बीच स्वच्छता तथा बेटी बचाओ एवं बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत नोटबुक वितरित किया गया था। उक्त नोटबुक के कवर पृष्ठ पर बेटियों को प्रोत्साहित करने के लिए एक लड़की की तस्वीर लगानी थी। तस्वीर की जगह जब पाकिस्तानी लड़की की तस्वीर लगाने का मामला प्रकाश में आया तब इस मामले ने तूल पकड़ लिया।
पदाधिकारियों की सुनिए
वहीं इस संबंध में जिला स्वच्छता समिति के अन्य अधिकारी व डीडीसी सतीश कुमार शर्मा, डीआरडीए के डायरेक्टर राम निरंजन चौधरी एवं जिला जल स्वच्छता समिति के डीपीओ सुधीर कुमार ने मानवीय भूल बताया है। उन्होंने कहा कि गुगल से फोटो सेलेक्ट करने में संबंधित ऑपरेटर से चूक हुई है।
(अर्जुन अरनव / अभिषेक कुमार झा)
न्यूज डेस्क | 05/05/2018, शनिवार
www.gidhaur.com