Breaking News

गिद्धौर : गर्मी की हुई शुरुआत, बैंकों में पेयजल की सुविधा नहीं होने से ग्राहक परेशान

[गिद्धौर | अभिषेक कुमार झा] :- पैसों के लेनदेन, ऋण, बचत, जमा योजना, पेंशन सहित अन्य कई प्रकार की सेवाओं के लिए बैंक लोगों के जीवनचर्या का एक अहम् हिस्सा बन गया है। प्रतिदिन अनगिनत लोग अपने कामों के लिए बैंक जाते हैं। ऐसे में आवश्यक है कि ग्राहकों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए उनके लिए बैंक आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाए।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के निर्देशानुसार, सभी बैंकों को अपने ग्राहकों का ख्याल रखने का निर्देश दिया गया है। बात यदि गिद्धौर के यूको बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ इण्डिया की करें तो ग्राहकों के लिए यहाँ पेयजल की सुविधा भी उपलब्ध नहीं है। लिहाजा, बैंक के लेनदेन के लिए घन्टों खड़े रहने वाले खाताधारकों को अपनी प्यास बुझाने के लिए बैंक परिसर के बाहर जाना पड़ता है।
यह बात हमारे सामने तब आई जब गिद्धौर के सामाजिक कार्यकर्ता सुशांत साईं सुंदरम ने सोमवार को रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया और बैंक ऑफ़ इंडिया को ट्वीट करते हुए लिखा कि गिद्धौर स्थित बैंक ऑफ़ इंडिया की शाखा में पीने के पानी की सुविधा उपलब्ध नहीं है।
सुशांत का ट्विट :
इस पर जब हमने तहकीकात किया तो यह बात सामने आई कि केवल एक बैंक ही नहीं बल्कि कई बैंकों की शाखाओं में पीने के पानी की सुविधा उपलब्ध नहीं है। यूं तो गिद्धौर में प्रमुख रूप से 6 बैंकों की शाखाएं हैं, और इन बैंकों में प्रतिदिन सैंकड़ों की संख्या में ग्राहक अपने बैंकिंग कार्यों के लिए आते हैं। साथ ही नए ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए बैंकों द्वारा तरह-तरह के प्रचार प्रसार भी किये जाते रहे हैं। परंतु गिद्धौर के कुछ बैंकों में ग्राहकों को सुविधाएं देने के नाम पर कागजी चीजें तो बहुत हैं पर वास्तविकता कुछ और ही बयां करती है।

हलांकि गिद्धौर के कुछ बैंक ऐसे हैं जो अपने ग्राहकों को सुविधा के साथ सेवा देने के लिए भी कटिबद्ध है।
पर गिद्धौर में स्थित तमाम बैंकों में से कुछ बैंक ऐसे हैं जहां इस शुरूआती गर्मी में अपने ग्राहकों की सुविधा का ख्याल नहीं रखा जा रहा है। 

बैंक मैनुअल के अनुसार, बैंकों में ग्राहकों को बैठने के साथ-साथ पेयजल व शौचालय का भी इंतजाम किया जाना है। परन्तु गिद्धौर के कुछ बैंकों को छोड़कर बात करें तो बाकी अन्य बैंकों में ग्राहकों के लिए इन सुविधाओं का ख्याल नहीं रखा जा रहा है। ऐसी परिस्थिति में ग्राहकों को बैंक के बाहर पानी पीने को जाना होता है।
हलांकि गिद्धौर के तमाम बैंकों में फिल्टर वाटर की बोटल सप्लाई होकर आती है, लेकिन उस जल पर अधिकार सिर्फ वहाँ के बैंक कर्मचारियों को होता है। पेयजल के अलावे, ग्राहकों एवं खाताधारकों को परेशानी तब महसूस होती है, जब बैंक कार्य से पहुंचने के दौरान शौचालय की स्थिति महसूस होती है। इन बैंकों में सार्वजनिक इस्तमाल के लिए शौचालय भी नहीं उपलब्ध हैं।

चूँकि गर्मी की अभी शुरुआत भर है फिर भी पीने का पानी उपलब्ध नहीं कराये जाने से विशेषकर वृद्धों, महिलाओं और बच्चों को अधिक परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस संदर्भ में यदि बैंक कर्मचारियों की मानें तो मामले को व्यवस्थापक पर छोड़ वे अपना पल्ला झाड लेते हैं। 

(न्यूज़ डेस्क) | 13/3/2018,मंगलवार