Breaking News

चकाई : भक्तों की मनोकामना पूर्ण करती है तीनघारा वाली मां दुर्गा

[gidhaur.com|  चकाई] :- कहते हैं कि जो भक्त सच्चे मन से मां की आराधना करता है. उसकी मनोकामना मां तीनघारा वाली अवश्य पूरा करती है. तीनघारा दुर्गा मंदिर के संयोजक पंडित मोहन पांडेय बताते हैं कि यह मंदिर काफी प्राचीन है तथा 1787 में उनके पूर्वज स्वर्गीय अहलाद पांडेय द्वारा तीनघारा दुर्गा मंदिर का निर्माण स्थानीय ग्रामीणों के सहयोग से कराया गया था .उन्होंने आगे बताया कि मां दुर्गा ने स्वप्न में आकर उनसे मंदिर बनाने को कहा था. फल स्वरुप उनके द्वारा मंदिर निर्माण कराकर मंदिर की पूजा पाठ एवं रखरखाव हेतु 32 एकड़ 36 डिसमिल जमीन मंदिर के नाम दान कर दिया गया. जो आज भी मौजूद है. वही आह्लाद पांडे द्वारा मंदिर निर्माण के बाद उसके पूजा पाठ हेतु बंगाल के नाला थाना के सियार कोटिया गांव निवासी तथा प्रख्यात पंडित महादेव भट्टाचार्य को इस दुर्गा मंदिर का पुजारी नियुक्त किया था .आज भी उनके ही वंश के पंडित सुशील भट्टाचार्य इस मंदिर में पूजा अर्चना करते हैं .हर वर्ष वासंतिक नवरात्र के मौके पर इस मंदिर में मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर पूरे विधि विधान के साथ पूज अर्चना की जाती है. वही महाअष्टमी ,नवमी एवं विजयदशमी के अवसर पर मंदिर प्रांगण में मेला लगता है .वही प्रखंड सहित झारखंड के भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां आकर मां की पूजा-अर्चना में भाग लेते हैं. पंडित मोहन पांडेय हैं कि नवमी के दिन श्रद्धालुओं द्वारा हर वर्ष अपनी मन्नत पूरा होने पर हजारों की संख्या में बकरों की बलि चढ़ाते हैं .वही दसवीं को पूरे भक्ति एवं श्रद्धा के साथ मां की प्रतिमा का विसर्जन किया जाता है. मोहन पांडेय ने बताया कि आज तक मां की दरबार से कोई भी निराश नहीं लौटा है. यहां हर मनोकामना पूरी होती है बस अटूट विश्वास होना चाहिए.

(श्याम सिंह तोमर)
चकाई | 25/3/2018, रविवार
www.gidhaur.com