Breaking News

छात्रों को नहीं मिली सीएम से मिलने की इजाजत, पुलिस से हुई तूतू-मैंमैं

Gidhaur.com (जमुई) : गुरुवार को जमुई के लक्ष्मीपुर प्रखंड के काला गांव में विकास समीक्षा यात्रा के दौरान सात निश्चय योजना का शिलान्यास व उद्घाटन करने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे। काला गांव के एक नंबर वार्ड में हर घर मे लगे नल-जल योजना की समीक्षा करने के दौरान एकाएक अफरा-तफरी का माहौल उत्पन्न हो गया। 

हुआ यूं कि जब कुछ युवक अपने हाथ में भर्ती परीक्षा में अनियमितता बरतने, भ्रष्टाचार और विलंब को लेकर लिखे पर्चे मुख्यमंत्री को सौंपने आए थे, तब पुलिस द्वारा छात्रों को सीएम से मिलने के लिए रोका गया। तभी सैकड़ों की संख्या में मौजूद छात्रों ने हंगामा शुरू कर दिया और मुर्दाबाद के नारे लगाने लगे। जिस दौरान छात्र और पुलिस की आपस में नोकझोक भी हुई। इतना ही नहीं पुलिस और छात्रों के बीच हथापाई भी हुई। कुछ ही क्षणों में एसडीओ सुरेश प्रसाद ने भी युवकों को समझाने की भरसक कोशिश की, परंतु युवक मानने को तैयार नहीं हो रहे थे।

हो-हल्ला और भगदड़ की स्थिति में खुद एसपी जयंतकांत युवकों को शांत रहने का आग्रह करते दिखे। युवकों के हंगामे के बीच हल्ला सुनकर सीएम नीतीश कुमार ने युवकों से पर्चा मांगा और पढ़ने के बाद बोले की यह कोई विरोध नहीं है। यह तो मांग पत्र है। सीएम के पहल के बाद युवक शांत हुए जिन्हें सभास्थल में पीछे ले जाया गया। एक समय सभा में परिस्थिति बिगड़ने जैसी दिखने लगी थी, लेकिन सूझ-बूझ से माहौल को संभाल लिया गया।

अर्जुन अरनव
जमुई      |     29/12/2017, शुक्रवार