Skip to main content

हमारे पाठक

* सफलता का एक आसान फार्मूला है, आप अपना सर्वोत्तम दीजिये और हो सकता है लोग उसे पसंद कर लें। -सैम ईविंग * नौसिखिये बैठे रहते हैं और इंश्पिरेशन का इंतज़ार करते हैं, बाकी हम सब बस उठते हैं और काम पर चल देते हैं। -स्टीफन किंग * सफलता बहुत हद तक तब भी टिके रहना है जबकि बाकी लोग मैदान छोड़ कर चले गए हों। * जहाँ हो वहां से शुरुआत करो। उसका प्रयोग करो जो तुम्हारे पास है। वो करो जो तुम कर सकते हो। -आर्थर ऐश * हमारी सबसे बड़ी कमजोरी हार मान लेना है। सफल होने का सबसे निश्चित तरीका है हमेशा एक और बार प्रयास करना। -थॉमस ए. एडीसन

आप इस पोर्टल पर अपना न्यूज़ लगवाने के लिए हमारे व्हाट्सएप नंबर - 9504036827 पर हमें भेज सकते हैं

* जहां तुम हो वही से शुरू करो, जो कुछ भी तुम्हारे पास है उसका उपयोग करो और वह करो जो तुम कर सकते हो. * जब तक किसी काम को किया नहीं जाता तब तक वह असंभव लगता है. -नेल्सन मंडेला * तुम उन्नति नहीं करते जब सब कुछ ठीक होता है, परेशानियां तुम्हे मज़बूत बनाती हैं. * सफल वो होते हैं जो अपने ऊपर फेंके गए पत्थर से भी ईमारत बना लेते हैं.

रामायण तिवारी : जिन्होंने दिलवाई भोजपुरी फिल्मों को पहचान

Gidhaur.com (विशेष) : रामायण तिवारी, एक ऐसा नाम जिन्होंने हिंदी फिल्म जगत में बिहार के एक पिछड़े गांव से जाकर ना सिर्फ अपना एक मुकम्मल स्थान हासिल किया बल्कि बिहार की भाषा भोजपुरी फिल्मो की शुरुआत भी अपने गांव से की। यही नहीं उनका गांव बिहार का पहला ऐसा गांव है जहां पहली बार किसी भी फीचर फिल्म की शूटिंग हुई है। बिहार की राजधानी पटना जिले के एक छोटे से गांव मनेर के एक साधारण खेतिहर परिवार में रामायण तिवारी का जन्म हुआ था। उनका जन्म किस साल और किस तारीख को हुआ था इसकी सही जानकारी किसी के पास उपलब्ध नहीं है पर उनके पोते सुजीत तिवारी के अनुसार, उनके दादा जी बताया करते थे जब देश आजाद हुआ तब वो लगभग 30 साल के थे।

अंग्रेज़ो की गुलामी में सांस लेने वाले रामायण तिवारी बचपन से ही विद्रोही स्वभाव के थे और यही वजह थी की उन्होंने किशोरावस्था में कदम रखते ही अंग्रेजी हुकूमत की खिलाफत शुरू कर दी। मनेर के ही स्कूल से मैट्रिक तक की पढ़ाई करने के बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई जारी ना रखने का फैसला किया और आज़ाद हिन्द फ़ौज के कामरेडों के संपर्क में आ गए। माता-पिता के दबाब के कारण वो खेत में काम भी करते थे और आज़ादी की गतिविधियों में भी हिस्सा लेते थे। आखिरकार, 1942 के भारत छोडो आंदोलन के दौरान उन्होंने अपने एक कामरेड दोस्त के साथ पटना से ट्रैन में बैठ कर मनेर को अलविदा कह दिया। कहा जाता है ट्रेन में सफर के ही दौरान वो एक अँगरेज़ सहयात्री से उलझ गए और गुस्से में उन्होंने उस अँगरेज़ को ट्रेन से बाहर फेंक दिया। अगले स्टेशन पर उन्होंने ट्रेन बदल लिया और सीधे मुंबई पहुंच गए।
मुंबई में किया संघर्ष
मनेर जैसे छोटे से गांव के युवक के लिए महानगर मुंबई एक सपने जैसा था। जेब में पैसे नहीं थे, लेकिन दिल में देशभक्ति का जज्बा कूट-कूट कर भरा था। सौभाग्य वश उन्हें प्रभात स्टूडियो में छोटी सी नौकरी मिल गयी। इस स्टूडियो में फिल्मो की शूटिंग होती थी। रामायण तिवारी दिन में इस स्टूडियो में काम करते थे और रात में आजादी की लड़ाई में शामिल लोगो से मिलते जुलते थे। एकाध साल बाद ही देश की आजादी का मार्ग खुल गया और लोगो को पता चल गया की अब देश का आज़ाद होना तय है।
संयोगवश हुआ फिल्मों में पदार्पण
इसी बीच एक ऐसी घटना घटी जिसने रामायण तिवारी के जीवन को ही बदल दिया। हुआ यूँ की प्रभात स्टूडियो में मन मंदिर फिल्म की शूटिंग चल रही थी लेकिन एक चरित्र अभिनेता शूटिंग के लिए नहीं पहुंचा। निर्देशक के कहने पर रामायण तिवारी ने उस भूमिका को किया। उस छोटी सी भूमिका में ही उन्होंने अपनी अभिनय क्षमता का गजब का परिचय दिया और यहीं से शुरू हो गया उनका फ़िल्मी सफर। देश आजाद हो चुका था, मकसद पूरा हो चुका था और इस तरह वे पूरी तरह अभिनय के क्षेत्र में उतर गए।
घर वालों ने मरा मान लिया था, करने वाले थे अंतिम संस्कार
चूँकि वो घर से बिना किसी को कुछ बताये भाग कर आये थे इसीलिए घर से नाता बिल्कुल ही टूटा था लेकिन रामायण तिवारी को उनका गांव, उनका परिवार बहुत याद आता था। इधर आठ दस साल बाद उनके घर वालो ने उन्हें मरा मान लिया और रीती-रिवाज के अनुसार अंतिम संस्कार करने का फैसला किया लेकिन इसी बीच एक दिन मनेर के किसी युवक ने किसी फिल्म में रामायण तिवारी को देखा। मनेर तक यह बात पहुंची तो पूरा गांव उस फिल्म को देखने के लिए उमड़ पड़ा। रामायण तिवारी के घर वालो की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा। इसी बीच अचानक रामायण तिवारी अपने गाव लौट गए। कुछ दिन गांव में रहने के बाद उन्होंने फिर से मुंबई की ओर रुख किया। इस दौरान उन्होंने कई यादगार फिल्मे की।

बड़े निर्देशकों के साथ काम करने का मिला सौभाग्य
प्रभात स्टूडियो ने उस दौर में तीन मंझे हुए खलनायक को जन्म दिया था जिनमे प्राण, जयंत (अमजद खान के पिता) और रामायण तिवारी शामिल थे। रामायण तिवारी ने उस दौर के सभी बड़े निर्देशकों जैसे विमल रॉय, शोहराब मोदी के साथ-साथ राजकपूर के निर्देशन में भी काम करने का सौभाग्य पाया। उनकी चर्चित फिल्मो में यहूदी, नीलकमल, जिस देश में गंगा बहती है, पत्थर के सनम, पोस्ट बॉक्स 999, गोपी, दुश्मन , महाभारत, मधुमती, दो बीघा जमीन इत्यादि शामिल है। अपने 36 वर्ष के फ़िल्मी सफर में उन्होंने लगभग 125 फिल्मो में अभिनय किया। स्वतंत्रता सेनानी रामायण तिवारी फिल्म जगत में अपने उपनाम तिवारी के नाम से मशहूर थे, यहां तक की फ़िल्मी परदे पर भी उनका नाम तिवारी ही लिख के आता था। देशभक्त रामायण तिवारी अपने दौर के बिहार के राजनेताओं के बीच भी काफी मशहूर थे। यहां तक की जय प्रकाश नारायण जब भी मुंबई आते थे उनके सायन स्थित आवास पर अवश्य जाते थे।
कैंसर पीड़ितों की करते थे मदद
उस ज़माने में कैंसर का एकमात्र बड़ा हॉस्पिटल मुंबई में ही था। बिहार से उनके जानने वाले लोग अक्सर इनके नाम की चिट्ठी लिखकर कैंसर पीड़ित परिवार को देते थे। रामायण तिवारी ने कभी किसी को निराश नहीं किया और हर संभव उनकी मदद की।

डॉ. राजेंद्र प्रसाद की प्रेरणा से हुई भोजपुरी फिल्मों की शुरुआत
तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद का भी आशीर्वाद इन्हे प्राप्त था। दिलचस्प बात तो यह है की डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने भोजपुरी की अपनी फिल्म हो, इसकी मंशा सर्वप्रथम इनके पास ही जाहिर की थी। डॉ राजेन्द्र प्रसाद उनके प्रेरणा श्रोत रहे थे। उनकी बातों ने रामायण तिवारी को काफी प्रभावित किया क्योंकि बिहार की भाषा में फिल्म निर्माण की बात हुई थी। साथ ही वे प्रसिद्ध मराठी फिल्मकार वी शांताराम के क्रियाकलाप और अपनी भाषा मराठी के प्रति प्रेम से उनके कायल थे। अब उनके दिमाग में बस एक ही धून सवार थी भोजपुरी फिल्म का निर्माण लेकिन उनके पास इसके लिए पर्याप्त पैसे नहीं थे। इस काम में उनका साथ दिया राजकपूर ने जो रामायण तिवारी के काफी करीब थे।
भोजपुरी की पहली फिल्म है "गंगा मैया तोहे पियरी चढ़इबो"
भोजपुरी की पहली फ़िल्म "गंगा मैया तोहे पियरी चढ़इबो" के गानों की रिकॉर्डिंग से लेकर रिलीज़ होने तक सारा कार्य इनके देखरेख में संपन्न हुआ। इस फ़िल्म में महबूब, हेलेन, कुमकुम, अशीम कुमार, नाजिर हुसैन, मुकरी आदि कुछ चर्चित नाम थे। फ़िल्म की शूटिंग इनके ही गांव मनेर में हुई और सारे कलाकार उनके ही घर पर ठहरे थे। इस फ़िल्म के निर्माण के तुरन्त बाद ही रामायण तिवारी ने बतौर निर्माता-निर्देशक एक और भोजपुरी फ़िल्म "लागि नहीं छूटे रामा" के निर्माण का कार्य शुरू किया। इस फ़िल्म में भी लता मंगेशकर ने अपनी आवाज दी थी। चित्रगुप्त का संगीत था और कलाकार भी वही थे। उनकी सोच सफल हुई और फ़िल्म का निर्माण हुआ। यह फ़िल्म बहुत ही कामयाब और सुपरहिट रही तथा आज तक भारत में तथा भोजपुरी बोलने वाले विश्व् भर में रह रहे लोगों भर में विशेष कर मॉरीशस और अन्य देशों में इसकी काफी मांग है।
फिल्म ताजमहल के साथ रिलीज की अपनी फिल्म, रही सुपरहिट
दिलचस्प बात यह है कि जिस दिन जिस दिन "लागि नाही छूटे रामा" रिलीज होने वाली थी उसी दिन उठा दौर के सुपरस्टार प्रदीप कुमार की फ़िल्म ताजमहल रिलीज हो रही थी। सबने मना किया पर रामायण तिवारी को अपनी फ़िल्म और चंद भोंपुरिया दर्शकों पर पूरा भरोसा था। फिम रिलीज हुई और फ़िल्म ने बिहार में ताजमहल से भी अधिक का व्यवसाय किया। इस फ़िल्म ने ही भोजपुरी फिल्मों को भारतीय फ़िल्म उद्योग की मुख्यधारा में लाने का गौरव हासिल किया। यह सिर्फ दूरदर्शी रामायण तिवारी की इच्छाशक्ति थी जिसने जनता के लिए भोजपुरी फ़िल्म उद्योग का निर्माण किया। इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि आज तेलुगु, तमिल और हिंदी फिल्मों के बाद भोजपुरी फिल्में सबसे अधिक भारतीय दर्शकों द्वारा देखि जाती है।
मनेर में हुई हिंदी फ़िल्म 'धरती कहे पुकार के' की पूरी शूटिंग
रामायण तिवारी का कदम यहीं नही रुका उन्होंने मनेर की उस भूमि को उस दौर के सुपरस्टार जितेंद्र और नन्दा से परिचय करवाया और हिंदी फ़िल्म 'धरती कहे पुकार के' की पूरी शूटिंग मनेर में करवाई। यह रामायण तिवारी की उपलब्धि ही कही जायेगी की शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे की आत्मकथा (बाल ठाकरे एंड थे राइज ऑफ़ शिवसेना) के पेज नम्बर 55 पर फ़िल्म जगत के एक प्रसंग पर लेखक बैभव पुरंदरे ने रामायण तिवारी का जिक्र किया है।

विरासत को संभाल रही तीसरी पीढ़ी
हिंदी और भोजपुरी फ़िल्म के इस प्रतिष्ठित व्यक्तित्व भोजपुरी फिल्मो के जन्मदाता और बिहार के पहले फ़िल्मी कलाकार का 9 मार्च 1980 को मुम्बई में निधन हो गया तथा अपने पीछे एक विरासत छोड़ गया जिसकी आने वाले समय में बराबरी नहीं की जा सकती है। आज उनकी तीसरी पीढ़ी भोजपुरी फ़िल्म जगत में सक्रिय है। उनके पुत्र स्व. भूषण तिवारी ने भी अभिनय के क्षेत्र में अपनी अलग पहचान बनाई और अब उनके पौत्र सुजीत तिवारी की गिनती भोजपुरी के बड़े निर्माता और फाइनेंसर के रूप में होती है।

(अनूप नारायण)
Gidhaur.com    |    19/09/2017, मंगलवार

Comments

Most Read

एनडीए छोड़ महागठबंधन में मांझी, नाराज नरेंद्र सिंह का नहीं मिला साथ

Gidhaur.com (राजनीति) : बुधवार को होली से दो दिन पहले ही बिहार में राजनीतिक घटनाक्रम तेजी से बदले। एक ओर जहाँ भाजपा नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन से अलग होकर हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (सेक्युलर) बिहार में राजद-कांग्रेस वाले महागठबंधन से जा मिला वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के चार विधान पार्षद पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अशोक चौधरी के नेतृत्व में सूबे के सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड में शामिल हो गए। 

कांग्रेस विधान पार्षदों के जदयू में शामिल होने के बाद कांग्रेस ने उन्हें पार्टी से निकाला
हालाँकि चारों कांग्रेस नेताओं के जदयू में शामिल होने के थोड़ी ही देर बार कांग्रेस पार्टी के प्रभारी प्रदेश अध्यक्ष कौकब कादरी ने उन्हें पार्टी से निष्कासित कर दिया। जिस पर चुटकी लेते हुए डॉ. अशोक चौधरी ने कहा कि अब जबकि वो जदयू में शामिल हो गए हैं उसके बाद उन्हें पार्टी से निष्कासित किया जा रहा है, कांग्रेस यहाँ भी लेट हो गई। 
मांझी के साथ नहीं दिख रहे पार्टी के बड़े नेता
दूसरी ओर महागठबंधन और एनडीए में तेजी से हुए इस फेरबदल में हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (सेक्युलर) के प्रमुख व सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी …

गिद्धौर में शिक्षक प्रशिक्षण केन्द्र का निर्माण शुरू, भूमि पूजन संपन्न

"गिद्धौर शिक्षा के क्षेत्र में दिनोंदिन आगे बढ़ रहा है। साईकिल से विद्यालय जाती लड़कियां और हर वर्ष मैट्रिक-इंटर परीक्षा में बेहतरीन रिजल्ट इस बात का प्रमाण है कि बच्चों के पढ़ने की ललक के आगे अभिभावक भी जागरूक होकर उन्हें विद्यालय जाने को प्रोत्साहित कर रहे हैं। लेकिन इन नौनिहालों को अच्छी शिक्षा तब मिल पाएगी जब उन्हें अच्छे शिक्षकों का साथ मिलेगा, और अच्छे शिक्षकों के लिए गिद्धौर में एक बीएड कॉलेज का होना समय की मांग है। हम गिद्धौर में जमीन उपलब्ध करवाएंगे यदि आप इस दिशा में विशेष ध्यान देकर शिक्षक प्रशिक्षण केन्द्र निर्माण करवाने की पहल करें।" 
वर्ष 2014 में 6 फ़रवरी को जब गिद्धौर स्थित महाराज चंद्रचूड़ विद्यामंदिर के हीरक जयंती कार्यक्रम का भव्य आयोजन किया गया था तब कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि के रूप में गिद्धौर निवासी व बिहार सरकार के तत्कालीन भवन निर्माण मंत्री श्री दामोदर रावत ने कार्यक्रम के मुख्य अतिथि व उद्घाटनकर्ता सूबे के तत्कालीन शिक्षा मंत्री श्री पी के शाही का गिद्धौर की धरती पर स्वागत करते हुए यह प्रस्ताव रखा था। जिसके जवाब में श्री शाही ने अपने भाषण के दौरान गिद्धौ…

बड़ी खबर : प्रगति ने लालटेन छोड़ थामा तीर, टूटा राजद का स्तम्भ

Gidhaur.com  -  बिहार के राजनीतिक परिदृश्य में बुधवार को एक बड़ी उलटफेर देखने को मिली। राष्ट्रीय जनता दल अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष, प्रदेश प्रवक्ता, प्रदेश मीडिया प्रभारी, राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य एवं 2014 लोकसभा में राजद के मुंगेर प्रत्याशी श्री प्रगति मेहता आज जनता दल यूनाइटेड में शामिल हो गए। उन्हें जदयू बिहार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने पार्टी की सदस्यता दिलाई एवं माला पहना कर उनका स्वागत किया। पार्टी में शामिल होने के बाद श्री मेहता ने कहा कि हमलोग समाज के लिए देश के लिए कुछ काम करने आते हैं और एक सम्मान की चाहत होती है। मुझे लग रहा है कि सही जगह मैं आया हूँ। सम्मान जो मिल रहा है और सम्मान की जो उम्मीद लोग करते हैं इसकी वह सही जगह है। माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जो विकास किया है और उनका जो विजन है और सबसे बड़ी बात भ्रष्टाचार के मसले पर जो जीरो टोलेरेंस का उनका दृढ संकल्प है उससे मैं काफी प्रभावित हूँ। उन्होंने दाएं-देखा न बाएं देखा अपनी निति पर अडिग रहे और उन्होंने कड़ा फैसला लिया। भ्रष्टाचार से हम समझौता नहीं कर सकते, कुर्सी रहे चाहे जाए।
प्रगति मेहता …

गिद्धौर : मिलेनियम स्टार फाउंडेशन ने चलाया सफाई अभियान

Gidhaur.com(न्यूज़ डेस्क) : रविवार को गिद्धौर के दुर्गा मंदिर एवं मेला परिसर में सामाजिक गतिविधियों में सक्रीय स्थानीय संस्था मिलेनियम स्टार फाउंडेशन द्वारा सफाई अभियान चलाया गया. जिसमे दर्जनों युवाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और इस कार्यक्रम को सफल बनाया. रविवार की सुबह सात बजे जैसे ही मिलेनियम स्टार के सदस्यों ने हाथों में झाड़ू लेकर मेला परिसर में प्रवेश किया, वहां मौजूद सभी लोग कौतुहलवश देखने लगे की यहाँ आखिर क्या होने वाला है. गिद्धौर में ऐसा पहली बार हुआ की एक सामाजिक संस्था के द्वारा ऐसी निःस्वार्थ भावना से कचड़े की साफ़-सफाई की गई हो. गिद्धौर में दुर्गा पूजा एवं लक्ष्मी पूजा के पंद्रह दिनों से भी अधिक के समय में मेले के दौरान कितनी गंदगी हो जाती है, यह तो यहाँ के निवासी ही बता सकते हैं. लेकिन इस गन्दगी को दूर करने के विषय में कोई सोचता तक नहीं. सफाई अभियान का संचालन शैलेश कुमार के नेतृत्व में किया गया. जिसमें मुख्य रूप से उपस्थित मिलेनियम स्टार फाउंडेशन के अध्यक्ष सुशान्त साईं सुन्दरम ने कहा की किसी न किसी को इस कार्य के लिए पहल करनी ही चाहिए थी, तो यह हमारा सौभाग्य है की हमारी संस्था …

जमुई : हथियार के बल पर मेडिकल शॉप को लूटने का असफल प्रयास

Gidhaur.com(जमुई) : सोमवार को जमुई ज़िले के टाऊन थाना क्षेत्र से महज 100 मीटर की दूरी पर स्थित बर्णवाल मेडिकल हॉल में रात्रि 9 बजे हथियार के बल पर एक अपराधी ने लूट-पाट का प्रयास किया एवं दुकानदार से रंगदारी लेना चाहा। इसका विरोध किये जाने पर अपराधी ने दुकानदार को हथियार का भय दिखाकर डराने का भी प्रयास किया। शराब के नशे में धुत था अपराधी गौतम राम इस दौरान दुकानदार और लुटेरे के बीच हाथापाई भी हुई जिसमे दुकानदार ने लुटेरे के हाथ से हथियार छीन लिया, लेकिन लुटेरा हाथ छुड़ा कर दुकान से भाग निकला। दूकान में लगे कैमरा फुटेज के आधार पर शिनाख्त कर की गई गिरफ्तारी दुकान के अंदर हो रहे इस पूरी घटना को वहां लगे सीसीटीवी कैमरा ने रिकॉर्ड कर लिया। पुलिस के पहुँचने के बाद उन्हें सीसीटीवी की पूरी रिकॉर्डिंग दिखाई गई। वीडियो फुटेज में जो शख्स लूट पाट का प्रयास कर रहा था उसकी पहचान पुलिस ने कल्याणपुर निवासी अपराधी गौतम कुमार के रूप में की। इसके बाद पुलिस ने शहर में छापेमारी शुरू कर दी। इस दौरान लुटेरा गौतम कुमार को पुलिस ने महज 20 मिनट में गिरफ्तार कर लिया। 
(मो.अंजुम आलम) जमुई     |     12/09/2017, मंगलवार www.…

जमुई की खुशबु बनी इंटर विज्ञान में राज्य टॉपर

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा बारहवीं के सभी संकायों का रिजल्ट आज जारी कर दिया गया। विज्ञान संकाय में जमुई की खुशबु कुमारी ने राज्यभर में टॉप किया है। खुशबु सिमुलतला आवासीय विद्यालय की छात्रा है। खुशबु को 500 में 431 अंक मिले हैं। 86.2 प्रतिशत अंक लाकर खुशबु ने विज्ञान संकाय में राज्यभर में अपना परचम लहरा दिया है। खुशबु का परिवार मूल रूप से औरंगाबाद के रहने वाले हैं। उनके पिता अभय कुमार बिजली विभाग में ऑपरेटर हैं एवं माता गृहिणी हैं। खुशबु ने अपने बेहतरीन रिजल्ट का श्रेय अपने माता-पिता और शिक्षकों को दिया है। उनका कहना है कि सिलेबस की अच्छे तरीके से पढ़ाई, सेल्फ स्टडी और मॉडल सेट से प्रैक्टिस द्वारा ही यह संभव हो पाया है। तनाव को उन्होंने अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया और बिलकुल रिलैक्स होकर सभी पेपर लिखे। इसके साथ ही खुशबु ने JEE MAINS की परीक्षा क्रैक कर चुकी हैं और अब एडवांस के रिजल्ट का इन्तजार कर रही हैं। 

(खुशबु कुमारी का मार्कशीट)
(सुशान्त साईं सुन्दरम)~गिद्धौर       |       30/05/2017, मंगलवार 
www.gidhaur.blogspot.com


सोनो : लापता खुशबू जल्द होगी बरामद, टीम गठित

gidhaur.com(सोनो) :- सोनो की खुशबू के गायब होने को लेकर शनिवार को सोनो थाना परिसर में प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई गई, जहां पर झाझा एस.डी.पी.ओ. भास्कर रंजन उपस्थित हुए।

इस मौके पर सोनो के सभी पत्रकारों के अलावा सोनो के कई बुद्धिजीवियों ने उपस्थिति दर्ज कराई।
बताते चलें कि, कांफ्रेंस के दौरान सर्व प्रथम गिरफ्तार किए गए खुशबू के फुफा गोपाल तमोली से पुछताछ की गई।  इसके बाद काफी देर तक सभी से राय परामर्श के उपरांत निर्णय इस बिंदु पर पहुंचा कि खुशबू की हत्या नहीं बल्कि वह भाग गई है। हालांकि एस.डी.पी.ओ. भास्कर रंजन ने बताया कि जब तक खुशबू  बरामद नहीं हो जाती तब तक कई बिंदुओं पर पुलिस की निगाह बनी रहेगी। खुशबू की बरामदगी के लिए एक टीम गठित करने का आदेश सोनो थाना को देते हुए उन्होंने कहा कि टीम का गठन कर गोपाल तमोली के द्वारा बताए गए स्थान पर खांख छानी जाए, ताकि सोनो बाजार के लोगों को कुछ दिनों के लिए चुप कराया जा सके।

इस दौरान खुशबू के मोबाइल लोकेशन, बैंक पासबुक आदि की जांच करने का निर्णय लिया गया। हालांकि खुशबू की खोज के लिए सोनो पुलिस को खुशबू की हाथों लिखा 02 वर्ष पुराना एक प्रेम पत्र बरामद हु…

मानव श्रृंखला : बिहार के विश्व रिकॉर्ड में गिद्धौर ने दिया योगदान

विश्व की सबसे लंबी मानव श्रृंखला बनाकर इतिहास रचने के लिए आज पूरा बिहार एकजुट हुआ। इसमें गिद्धौर की धरती ने भी अपना योगदान दिया। आज सुबह से ही स्कूलों व बाजार में चहल-पहल देखी गई। गिद्धौर के लोग खुद को खुशनसीब मानकर इसमें योगदान देने को उत्सुक दिखे एवं जगह-जगह मानव श्रृंखला का निर्माण करने के लिए इकठ्ठा हुए।
एन एच - 333 पर बनी मानव श्रृंखला
गिद्धौर में मानव श्रृंखला के निर्माण में स्कूली बच्चे, शिक्षकगण, राजनितिक व सामाजिक कार्यकर्त्ता, जनप्रतिनिधि, ग्रामीण व विभिन्न तबके के लोग मुख्य सड़क एन एच - 333 पर एक दूसरे के हाथ में हाथ डाले खड़े हुए।
उत्साह, गर्व, मुस्कान और जय बिहार गिद्धौर की सड़क पर मानव श्रृंखला के निर्माण की शुरुआत होते ही लोगों के चेहरे पर मुस्कान, बच्चों के मन में उत्साह और महिलाओं के चेहरे पर गर्व साफ़ झलक रहा था। बच्चों द्वारा नशामुक्ति को लेकर विभिन्न नारे लगाये जा रहे थे। साथ ही जय बिहार और जय गिद्धौर के नारे से पूरा वातावरण गुंजायमान हो रहा था।
परिचालन पर रहा रोक
एन एच - 333 गिद्धौर से जमुई व गिद्धौर से झाझा होते हुए बड़े शहरों को जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग है। मानव श…

यहाँ जानें - जौहर करने वाली रानी पद्मावती का इतिहास

Gidhaur.com(विशेष) : पद्मावती को इतिहास में पद्मिनी नाम से भी संबोधित किया गया है। 12वी और 13वी सदी में दिल्ली के सिंहासन पर दिल्ली सल्तनत का राज था। सुल्तान ने अपनी शक्ति बढ़ाने के लिए कई बार मेवाड़ पर आक्रमण किया। इन आक्रमणों में से एक आक्रमण अलाउदीन खिलजी ने सुंदर रानी पद्मावती को पाने के लिए किया था। वरिष्ठ पत्रकार अनूप नारायण आप को बता रहे है पूरा इतिहास। रानी पद्मावती का बचपन और स्वयंवर में रतन सिंह से विवाह रानी पद्मावती के पिता का नाम गंधर्वसेन और माता का नाम चंपावती था रानी पद्मिनी के पिता गंधर्वसेन सिंहल प्रान्त के राजा थे। बचपन में पद्मावती के पास “हीरामणी” नाम का बोलता तोता हुआ करता था जिसके साथ उसने अपना अधिकतर समय बिताया था। रानी पद्मावती बचपन से ही बहुत सुंदर थी और बड़ी होने पर उसके पिता ने उसका स्वयंवर आयोजित किया। इस स्वयंवर में उसने सभी हिन्दू राजाओं और राजपूतों को बुलाया। एक छोटे प्रदेश का राजा मलखान सिंह भी उस स्वयंवर में आया था। राजा रावल रतन सिंह भी पहले से ही अपनी एक पत्नी नागमती होने के बावजूद स्वयंवर में गया था। प्राचीन समय में राजा एक से अधिक विवाह करते थे ताक…

ब्रिक्स यंग पार्लियामेंटेरियन समिट में शामिल होंगे सांसद चिराग

Gidhaur.com(न्यूज़ डेस्क) : लोक जनशक्ति पार्टी के केंद्रीय संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं जमुई लोकसभा से सांसद चिराग पासवान रूस के सेंट पीटर्सबर्ग में होने वाले ब्रिक्स यंग पार्लियामेंटेरियन समिट में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। चिराग पासवान के साथ तीन और युवा सांसद इस समिट में देश की ओर से भाग ले रहें है। न केवल जमुई और बिहार के लिए बल्कि देश के लिए भी यह गौरव की बात है की युवा सांसद ब्रिक्स की सम्मेलन में देश का प्रतिनिधित्व करेंगे। जहाँ युवाओं की समस्याओं और उनके समाधान पर विस्तार से चर्चा होगी। इस सम्मेलन में भारत के अलावा ब्राजील, रूस, चीन एवं दक्षिण अफ्रीका के युवाओं प्रतिनिधियों के साथ युवाओं की भागदारी पर भी चर्चा होगी। चिराग पासवान इसके पहले संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके है और वहाँ भी इन्होंने युवाओं की भागदारी, उनकी समस्याएँ एंव उनके निदान पर विस्तृत चर्चा की थी। चिराग पासवान के इस समिट में देश की ओर से प्रतिनिधित्व करने से बिहार के ही नही देश के युवाओं को अब यह लगने लगा है कि अन्तराष्ट्रीय मंच पर भी हमारी समस्याओ के समाधान हेतु चर्चा होगी और …