Breaking News

मिलेनियम स्टार के आवाहन पर युवाओं ने संग्रहित किया बाढ़ राहत सामग्री


Gidhaur.com (न्यूज़ डेस्क) - आज बिहार का आधा हिस्सा बाढ़ से तबाह है। यह सर्वविदित है कि तकरीबन हर वर्ष बिहार के उत्तरी भाग में बाढ़ के प्रकोप का सामना करना पड़ता है। लेकिन बाढ़ आने से पूर्व बचाव की कोई खास तैयारी नही रहने की वजह से नागरिकों को भारी जान-माल का नुकसान सहना पड़ता है। फिर भी सरकारें प्रलयकारी बाढ़ से जनता को निजात दिलाने के स्थायी समाधान का प्रयास तो करती है पर वो प्रयास उन पीड़तों तक नहीं पहुँच पाता।

ऐसी परिस्थिति में उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों में आई भीषण बाढ़ से पीड़ित लोग दाने-दाने को मोहताज हैं। बाढ़ ने लोगों को भुखमरी के कगार पर खड़ा कर दिया है। इस त्रासदी से जूझ रहे लोगों की परिस्थिति के कल्पना मात्र भी रौंगटे खड़े कर देते हैं। हालात ये है कि लोग पेट भरने के लिए सड़क पर गिरे अनाज को किसी तरह एकत्रित कर खा रहे हैं। ऐसे में बाढ़ पीड़ितों तक राहत पहुँचाने के उद्देश्य से सामाजिक गतिविधियों मे सक्रिय संस्था मिलेनियम स्टार फाउंडेशन द्वारा जनसहयोग के तहत एक छोटा सा प्रयास किया जा रहा है। जिस कड़ी में जमुई जिले के गिद्धौर प्रखंड स्थित कौशल विकास केन्द्र में चल रहे कुशल युवा कार्यक्रम में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे प्रशिक्षुओं ने केन्द्र समन्वयक सचिन कुमार के नेतृत्व में सूखे खाद्य पदार्थ, कपड़े एवं सहयोग राशि का संग्रहण कर मिलेनियम स्टार फाउंडेशन के संस्थापक सह अध्यक्ष सुशान्त साई सुन्दरम् को गिद्धौर प्रखंड विकास पदाधिकारी विकास कुमार ने सौंपा।


इस दौरान केन्द्र समन्वयक सचिन कुमार ने कहा कि मानव जाति होने के नाते लोगों को बाढ़ पीड़ितों की सहायता करना परम कर्तव्य बनता है। लोगों को इस पुनीत कार्य में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेना चाहिए और इस सामाजिक कार्य में मिलेनियम स्टार फाउंडेशन संस्था बेहतरीन कार्य कर रही है। वहीं मौजूद फाउंडेशन के अध्यक्ष सुशान्त साईं सुन्दरम् ने  कहा है कि यह एक प्राकृतिक आपदा है, जिसमें सभी लोगों को हाथ बंटाना चाहिए। ऐसी विषम परिस्थिति में लोगों को तन-मन-धन से साथ देकर यथासंभव सहयोग करना अति आवश्यक है। श्री सुन्दरम् ने केन्द्र समन्वयक सचिन कुमार का तहेदिल से आभार व्यक्त करते हुए इस सहयोग के लिए धन्यवाद दिया।


विदित हो कि बाढ़ ग्रसित इलाकों में सरकार द्वारा राहत सामग्री मुहैया करवाया जा रहा है। साथ ही कई सामाजिक संगठन भी अपने स्तर से राहत कार्य में लगे हैं। ऐसे में युवाओं की भागीदारी के साथ गिद्धौर जैसे छोटे से इलाके में सक्रीय सामाजिक संस्था मिलेनियम स्टार फाउंडेशन द्वारा किये गये इस पहल से समाज में एक नए सन्देश का संचार हुआ और कुशल युवा केंद्र में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे, अश्विनी पाण्डेय, सहयोगी धर्मेन्द्र कुमार, राघवेन्द्र पाण्डेय, गौरव कुमार, वशिष्ठ कुमार, संदीप ठाकुर, राजेश कुमार, सुप्रिया कुमारी, नीतू कुमारी, भवेश राम, शिशुपाल, दयाशंकर, गुंजन झा, लक्ष्मण कुमार सहित दर्जनों प्रशिक्षुओं व अन्य युवा भी सामाजिक सहायता हेतु प्रेरित होकर इस क्षेत्र मे आगे आकर अपना यथासंभव योगदान मिलेनियम स्टार फाउंडेशन को समर्पित किया । 


आलम तो यहाँ तक है कि पीड़ित लोग बेसब्री से सरकारी राहत सहायता का इन्तजार कर रहे है। कहीं-कहीं टूटे घरों के नाम पर कुछ मुआवजा बांटा भी जा चुका है लेकिन वह इतना कम है कि घर की एक दीवार तक उसमे नही बन सकती। पर उन नेतृत्व कर्ताओं को ये समझ क्यूँ नही आता कि वोट की राजनीति तो बाद में भी हो सकती है।
खैर अब जो भी हो, प्रकृति के आगे तो मनुष्य सदैव पराजित हुआ है। इसके एतद गिद्धौर के मिलेनियम स्टार फाउंडेशन द्वारा जो सहानुभूति का मरहम इन बाढ़ पीड़ितों पर लगाने का प्रयास, एक ओर ये प्रमाणित करने के लिए पर्याप्त है कि इस धरा पर मानवता अभी जीवित है।


(अभिषेक कुमार झा)
गिद्धौर    |    29/08/2017, मंगलवार