Skip to main content

Posts

Showing posts from June, 2017

हमारे पाठक

आप इस पोर्टल पर अपना न्यूज़ लगवाने के लिए हमारे व्हाट्सएप नंबर - 9504036827 पर हमें भेज सकते हैं

कौशल युवा कार्यक्रम के प्रशिक्षुओं को दी गई मशरूम उत्पादन की जानकारी

शुक्रवार की दोपहर गिद्धौर प्रखंड कार्यालय स्थित बिहार कौशल विकास केंद्र में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे कौशल युवा कार्यक्रम के प्रशिक्षुओं के बीच सारडा संस्था की मुख्य सदस्य व मशरूम उत्पादक श्रीमती रूबी देवी द्वारा मशरूम उत्पादन की तकनीक एवं इससे होने वाले लाभ की जानकारी दी गई। इसका मुख्य उद्देश्य सभी प्रशिक्षुओं को स्वरोजगार हेतु जागरूक करना है। इस दौरान श्रीमती रूबी देवी ने बताया कि सारडा संस्था द्वारा जमुई जिले मे नाबार्ड द्वारा प्रायोजित ADS-JLG (मशरूम कार्यक्रम) स्कीम के अंतर्गत पूरे जमुई जिले मे महिलाओं के रोजगार हेतु मशरूम की खेती करायी जा रही है। 
इस मौके पर प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे जून बैच के छात्र गौरव कुमार, प्रीति कुमारी, भवेश राम, मोनिका पान्डेय, राखी कुमारी, जय कुमार के अतिरिक्त केन्द्र समन्वयक सचिन कुमार उपस्थित थे।

(गौरव कुमार)
~गिद्धौर        |        30/06/2017, शुक्रवार 
www.gidhaur.blogspot.com

गिद्धौर : कुशल युवा कार्यक्रम की परीक्षा आयोजित

मंगलवार, 27 जून और बुधवार, 28 जून को गिद्धौर प्रखंड कार्यालय परिसर मे आयोजित बिहार सरकार के सात निश्चिय योजना अंतर्गत कुशल युवा कार्यक्रम की परीक्षा आयोजित की गयी। इस परीक्षा मे कौशल विकास केन्द्र, गिद्धौर के केन्द्र समन्वयक सह प्रशिक्षक सचिन कुमार के संयोजन व कड़े निगरानी मे  परीक्षा ली गयी। अप्रैल बैच के सभी प्रशिक्षु इस सात निश्चय योजना के परीक्षा मे सम्मिलित हुए। बिहार सरकार के युवा कौशल कार्यक्रम के तहत आयोजित इस ऑनलाइन परीक्षा मे शामिल हुए परीक्षार्थी अमित कुमार साव, सुरज कुमार गुप्ता, राजा कुमार व अन्य प्रशिक्षुओं ने जानकारी देते हुए बताया कि तीन महीने के कड़े प्रशिक्षण के बाद आज ऑनलाइन परीक्षा मे सम्मिलित होकर काफी ख़ुशी महसूस हो रही है। हमें उम्मीद है कि हम परीक्षार्थी बिहार सरकार के तत्वावधान मे ली गयी इस परीक्षा मे बेहतर प्रदर्शन कर अपने गिद्धौर प्रखंड को गौरवान्वित करेंगे। परीक्षार्थियों ने अपने प्रशिक्षण दाता सह केन्द्र समन्वयक सचिन कुमार की तारीफ करते हुए बताया कि इनके द्वारा दी गयी प्रशिक्षण एवं मार्गदर्शन अतिलाभदायक है जिसका लाभ हमें जीवनभर मिलता रहेगा। परीक्षा समाप्ति के…

जर्जर है गिद्धौर राजपूत टोला की पीसीसी सड़क

जमुई जिला अंतर्गत गिद्धौर प्रखंड के पतसंडा पंचायत की गलियों मे तमाम हथकन्डे अपनाते हुए एक तरफ करोड़ों रुपये खर्च कर पीसीसी सड़कें बनाई जा रही हैं किंतु दूसरी तरफ इसके रख-रखाव के प्रति स्थानीय प्रशासन सजग नहीं दिखती जिससे ये समय से पहले टूटने भी लगती हैं। गिद्धौर हाई स्कूल मुख्यद्वार, एनएच 333 के सामने से गिद्धौर राजपूत टोला होकर वीरेन्द्र पान्डेय के घर तक जाने वाली पीसीसी सड़क इसका उदाहरण है। इस पीसीसी सड़क की उम्र बीती भी नहीं और यह बदहाली के आँसू रो रही है। साफ-साफ कहा जाय तो सड़क की हालत जर्जर ही नहीं बल्कि बत्तर हो गई है। 

टोला निवासियों की सुनिये
राजपूत टोला निवासी अभय कुमार सिंह, काजू सिंह, राकेश सिंह, चुन्नू सिंह, सन्नी सिंह, निहाल सिंह, मीनल सिंह, अंशु सिंह, शिवानी कुमारी आदि का कहना है कि इस पीसीसी सड़क की हालत जर्जर होने से यातायात की समस्या होती है और बरसात का पानी सड़क पर जम जाता है। चार पहिया वाहन तो दूर, दो पहिया वाहन से भी चलना दूभर हो गया है। इस का समाधान तो है किंतु अब तक इस दिशा में कोई भी पहल कारगर सिद्ध नहीं हो पा रहा है और नाहि अब तक कोई कार्रवाई होती दिख रही है। लिहाजा ला…

भोजपुरी लोकगायक अजित कुमार अकेला का निधन

'अब पियवा के लागल बा कचहरी भेजले बा डोलिया कहारी...'
भोजपुरी लोकगायक अजित कुमार अकेला का आज अहले सुबह ब्रेन हेमरेज से निधन हो गया उनकी स्मृति में अनूप नारायण ने इस आलेख को कलमबद्ध किया है। 
'कौड़ी कौड़ी जोड़ के संचय कइनी खजाना, पूंजी सब खर्चा हो गईले करब से कवन बहाना...' 'त पल भर समय ना घटिहे-बढिहे, समय से खुली सवारी अब पियवा के लागल बा कचहरी भेजले बा डोलिया कहारी...' यह निर्गुण अकसर लोकगायक अकेला कुमार अकेला गाया करते थे। गुरु अजित जी से पहली मुलाकात पटना हाई स्कूल में 1995 में हुई वे वहां संगीत शिक्षक थे। मेरे ऊपर उनका विशेष स्नेह था। पटना कालेज के पास ऐनी बेसेंट मार्ग में उनका आवास था, पर इन दिनों राजापुर पुल के पास गंगा अपार्टमेंट में रहने लगे थे। 'हमार बैल गाडी सबसे अगाडी', 'झामलाल बुढवा पीटे कपार', 'बऊरहवा के अजबे राजधानी देखनी', 'देवी भईली गुलरी के हो फूल', 'अईली दुअरिया बन के पुजरिया', 'चार गो बेलपत्र चार दाना चाऊर', 'ऐ भोला देख तहार' आदि उनके लोकप्रिय हिट गीत थे। एचएमवी, वेस्टर्न, टिप्स, गंगा, सूर्या…

गंगरा : पइन पक्कीकरण को ले सांसद से मिला आश्वासन

बाबा कोकिलचंद धाम गंगरा में वर्ष 2014 में एक क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया गया था। जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर सांसद चिराग पासवान उपस्थित थे। इस दौरान स्थानीय लोगों ने उनसे गंगरा के दोनों पइनों का पक्कीकरण करवाने का आग्रह किया था। जिसके बाद सांसद ने पारितोषिक वितरण के बाद अपने सम्बोधन में इस मांग को पूरा करवाने का आश्वासन दिया था। लेकिन समय बीत जाने के बाद भी इस दिशा में कोई पहल नहीं किया गया तो पिछले वर्ष 28 सितम्बर को गंगरा निवासी शिक्षक चुनचुन कुमार ने नई दिल्ली स्थित सांसद चिराग पासवान के कार्यालय जाकर उन्हें फिर से स्मरण दिलवाया जिसके बाद पुन्नः सकारत्मक आश्वासन मिला। फिर भी पइन पक्कीकरण का काम नहीं हो पाने को लेकर चुनचुन कुमार द्वारा सांसद कार्यालय में विभिन्न माध्यमों से संपर्क बनाए रखा गया एवं सोशल मीडिया द्वारा भी सांसद को लगातार निवेदित किया गया। 

शिक्षक चुनचुन कुमार का प्रयास धीरे-धीरे रंग ला रहा है। शनिवार, 24 जून को सांसद चिराग पासवान के कार्यालय से फोन कर पइन पक्कीकरण हेतु सम्बंधित जानकारियों के साथ ईमेल द्वारा आवेदन प्रेषित करने कहा गया है। साथ ही बताया गया कि इस कार…

हुआ चाँद का दीदार, देशभर में ईद आज

रविवार को शाम ढलते ही खानकाह-ए-मुजीबिया, इमारत-ए-शरिया सहित विभिन्न मुस्लिम एदारो ने ईद का चाँद देखने का ऐलान किया। चाँद के दीदार को लोग बेसब्री से अपने छतों पर आसमान निहार रहे थे। विशेषकर बच्चों में चाँद देखने का खास उत्साह था। यूँ तो आसमान में बदल छाये रहने और फुहार वाली बारिश की वजह से गिद्धौर एवं आसपास के इलाके में चाँद का दीदार न हो सका। लेकिन टीवी, रेडियो और सोशल मीडिया के माध्यम से देश के विभिन्न स्थानों पर चाँद के दीदार किये जाने की खबर मिली तो रोजेदारों के चेहरे ख़ुशी से खिल उठे और बच्चों की ख़ुशी का ठिकाना न रहा। सोमवार यानि आज आपसी सौहार्द, अमन एवं सदभावना का त्यौहार ईद हर्षोल्लास से मनाया जायेगा।


चाँद का दीदार करते ही लोगों ने हाथ उठाकर दुआ मांगी। तमाम रोजेदारों ने अल्लाह का शुक्रिया अदा किया कि रमजान के पाक माह में उन्होंने महीने भर उपवास रखने की शक्ति प्रदान की। सोमवार को ईद मनाये जाने का ऐलान होते ही सभी बाजार की ओर निकल पड़े। यूँ तो हलकी बारिश भी हो रही थी लेकिन लोगों के हौसले कम नहीं पड़े। सेवइयां, नए कपड़े और तोहफों की जमकर खरीददारी की।सोमवार की सुबह होते ही गिद्धौर, केतरू…

पुण्यतिथि पर दिग्विजय सिंह को दी गई श्रद्धांजलि

शनिवार की भोर जैसे ही हुई जनसमूह के कदम उस ओर बढे जा रहे थे जहाँ जनप्रिय राजनेता दिग्विजय सिंह को पंचतत्व में विलीन किया गया था। 2010 में 24 जून को उन्होंने आखिरी सांस ली थी। गिद्धौर के नयागांव में जन्म लेने वाले दिग्विजय सिंह ने राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय फलक पर अपनी अमिट पहचान बनाई। विकासपुरुष और गरीबों के पुरोधा कहे जाने वाले दिग्विजय सिंह ने हमेशा ही पिछड़े-वंचितों और जरूरतमंदों की यथासंभव सहायता की थी। विकास कार्य आदि की चर्चाओं में आज भी गली-चौराहों, चाय दुकानों और अन्यत्र दिग्विजय सिंह का नाम लिया जाता है। बांका एवं गिद्धौर के विकास में दिग्विजय सिंह का योगदान सर्वोपरि रहा है। अभी भी लोग यह कहते नहीं थकते कि दिग्विजय सिंह होते तो गिद्धौर की तस्वीर ही कुछ और होती।

यूँ तो कई राजनेता हुए हैं लेकिन जनमानस का जो प्यार दिग्विजय सिंह को मिला है वो बिरले ही किसी अन्य राजनेता को मिला होगा। तभी तो उनके निधन पर उनके चाहने वालों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया था। चीत्कार करती एक स्थानीय महिला की अख़बार में छपी तस्वीर आज भी लोगों के जेहन में ताजा है। केंद्र में मंत्री पद पर रहते हुए भी उन्होंने लोगो…

दिग्विजय सिंह : न झुके, न रुके, चले तो चलते ही चले गए

दिग्विजय सिंह, एक ऐसा प्रभावशाली नाम जो कान मे आते ही, गिद्धौर जैसे इलाके को शीर्ष पर लाकर खड़ा कर देता है। दिग्विजय सिंह यानि कि दादा, जैसा नाम वैसी ही उनकी शख्सियत। इलाके के लोग प्रेमवश दादा कहकर बुलाते रहे और अब भी उनकी चर्चाएं इसी नाम से होती है। सन् 1989 में राजनीतिक जीवनारंभ बांका से किये, जिन्होंने कभी भी चरित्र व व्यक्तित्व से समझौता नहीं किया। जो सदैव स्वाभिमान की लड़ाई लड़ते रहे। जिन्होंने जनता की बेबसी, अनीति, लाचारी, बेरोजगारी व अन्याय  के विरुद्ध सदैव संघर्ष किया। एक आशा और विश्वास का नाम था दिग्विजय सिंह। एक भरोसा का नाम था दिग्विजय सिंह। एक महामानव थे दिग्विजय सिंह। हर दिल अजीज, जाति, धर्म व संस्कार से ऊपर। एक अनूठा व्यक्तित्व जिनका था, वो दादा थे। जो कभी न झुके, न रुके, चले तो चलते ही चले गए। गिद्धौर ही नहीं, बांका ही नहीं, बिहार ही नहीं, इस देश के एक अद्वितीय सपूत थे दिग्विजय सिंह। दादा के नाम से विख्यात स्व. दिग्विजय सिंह ने उत्कृष्ट व्यक्तित्व के गिद्धौर का संतुलित विकास का व परिपक्व राजनीतिक ख्वाब देखा था। उनके राजनीतिक जीवन मे कई दाव पेंच आए, लेकिन इनका स्वभाव स्थिर…

पुण्यतिथि : नेताओं ने किया दिग्विजय सिंह को विस्मृत

बिहार से लेकर देश के कुछ बड़े राजनेताओं ने आज राजनीति के कद्दावर चेहरा रहे दिवंगत दिग्विजय सिंह को उनके पूण्य तिथि पर उन्हें विस्मृत कर दिया। इफ्तार खाने में व्यस्त बिहार के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार भी उन्हें सिर्फ इसलिए विस्मृत तो नहीं कर गए कि उन्होंने राजनीतिक जीवन में कई आरोप नीतीश कुमार पर लगाये थे। दिग्विजय सिंह का जन्म 14 नंवबर 1955 को बिहार के जमुई में सुरेंद्र सिंह के घर हुआ था। वह अपने माता-पिता के इकलौते बेटे थे। उन्होंने एमए की पढ़ाई पटना विश्वविद्यालय से पूरी की और उसके बाद एमफिल करने दिल्ली चले गए। जहां उन्होंने जेएनयू से एमफिल किया। उसके बाद कुछ समय के लिए दिग्विजय सिंह टोकियो विश्वविद्यालय भी गए। अपनी राजनीतिक जीवन की शुरुआत दिग्विजय सिंह ने जेएनयू से किया। उसके बाद 1990 में वह पहली बार राज्यसभा पहुंचे और इसके साथ ही 1990-91 में ही चंद्रशेखर के मंत्रिमंडल में वह मंत्री भी रहे। अपने 55 साल के जीवन में दिग्विजय सिंह 5 बार संसद सदस्य रह चुके थे। तीन बार लोकसभा (1998,1999,2009) और दो बार राज्यसभा (1990, 2004) के सदस्य। इतना ही नहीं एनडीए के शासन काल में 1999-2004 के बीच …

इंग्लिश ओलम्पियाड में भाग लेने वाले प्रतिभागी हुए पुरस्कृत

21 जून की देर शाम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर गिद्धौर स्थित महाराज चन्द्रचूड़ विद्या मंदिर के प्रांगण मे इंटरनेशनल इंग्लिश ओलम्पियाड परीक्षा में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया। इसी वर्ष जनवरी में साइंस ओलम्पियाड फाउंडेशन द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अंग्रेजी भाषा के ओलम्पियाड परीक्षा का आयोजन किया गया था। इसमें सफल होने वाले प्रतिभागियों को योग गुरू उड़िया बाबा, विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य मो. मंजूर आलम एवं विद्यालय के शिक्षक सह साइंस ओलम्पियाड फाउंडेशन के गिद्धौर प्रखंड समन्वयक कृष्णकान्त झा द्वारा पुरस्कार प्रदान किया गया।
इस परीक्षा में शामिल होने वाले प्रतिभागियों को मैडल व प्रशस्ति-पत्र दिया गया। विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य मो. मंजूर आलम ने सभी छात्र-छात्रों की हौसला अफ़ज़ाई करते हुए कहा कि हमारे विद्यालय में संसाधन की कमी है जिसके बावजूद बच्चों के लगन, मेहनत एवं प्रतिभा के बल-बूते विद्यालय का नाम रौशन हो रहा है।  


इस पुरस्कार वितरण समारोह में इंग्लिश ओलंपियाड में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र आशीष झा, जोनल रैंक में 873वां स्थान प्राप्त करने वाले छात्र …

दिव्यांग एडवेंचर जर्नी : सियाचिन ग्लेशियर की साहसिक यात्रा पर निकले अनुराग और संतोष

दिल में अगर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो शारीरिक अपंगता तथा आर्थिक अभाव भी आड़े नही आता। इस कहावत को वास्तविकता की धरातल पर सही सिद्ध करते हुई बुधवार को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर पटना के दिव्यांग एथलीट अनुराग चंद्रा और संतोष कुमार पुन: एक नए विश्व कीर्तिमान स्थापित करने हेतु साहसिक यात्रा की शुरुआत आज की। ये दोनों एडवेंचर जर्नी पर दानापुर कैंट पटना से सियाचिन ग्लेशियर के लिए रवाना हुए। चर्चित आईपीएस अधिकारी अरविन्द पाण्डेय, अदम्या अदिति गुरुकुल के संस्थापक गुरु डॉ एम रहमान एवं मेंटर मुन्ना जी ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखा कर इस यात्रा को रवाना किया। अनुराग ने बताया कि आठ राज्यों से होते हुए सियाचिन पहुंचा जाएगा इस बीच रास्ते में कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है। इसे लेकर राज्य सरकार, खेल प्राधिकरण मंत्रालय, नई दिल्ली के अलावा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी एवं महामहिम राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी को पत्र लिखकर मदद की मांग की थी लेकिन कहीं से भी किसी प्रकार का आर्थिक मदद नही मिला। अनुराग एवं संतोष ने अपने यात्रा के संदर्भ में बताया कि हम दोनों का हौसला गुरु डॉ एम रहमान और…

योग दिवस : विद्यालय एवं सामाजिक संस्थाओं में हुआ योगाभ्यास का आयोजन

आज के इस आधुनिक दौर में योग को ही स्वस्थ्य शरीर का एकमात्र विकल्प बताया गया है । वर्तमान पीढ़ी को योग को जीवन में आत्मसात करने की आवश्यकता है। उक्त बातें बुधवार को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर गिद्धौर स्थित महाराज चंद्रचूड़ विद्या मंदिर के प्रांगण में प्रगति आदर्श सेवा केन्द्र, समस्तीपुर के तत्वाधान में केंद्रीय योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा अनुसंधान परिषद द्वारा प्रायोजित एक दिवसीय योग शिविर कार्यशाला के आयोजन के दौरान उद्घाटनकर्ता सह मुख्य अतिथि योग गुरू उड़िया बाबा ने कही।

इस अवसर पर प्रवीण कुमार सूर्य एवं योग संस्थान के दीपक कुमार द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर योग शिविर के कार्यक्रम की शुरुआत की गई। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आयोजित इस योग शिविर में विद्या मंदिर के सैंकड़ो छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया। समारोह को योग संस्थान के दीपक कुमार, विद्यालय प्राचार्य मंजूर आलम, कृष्णकांत झा, अजय कुमार, अमरेश प्रसाद, वरिष्ठ पत्रकार अभय सिंह ने भी संबोधित किया। इस दौरान बच्चों को व्यस्त जीवनशैली में भी योग से होनेवाले स्वास्थ्य लाभ की जानकारी दी गयी। योगाभ्यास के बाद प्रशिक्षण…

पुण्यतिथि पर विशेष : मदद करना दादा का स्वभाव हो चुका था

पूर्व रेल राज्य मंत्री, विदेश राज्य मंत्री एवं बांका सांसद रह चुके स्व० दिग्विजय सिंह की पहचान विकासपुरुष एवं सदैव मददगार रहने वाले शख्सियत के रूप में होती रही है. प्रेमवश उन्हें लोग 'दादा' कहकर सम्बोधित किया करते थे. हालाँकि अब वो हमारे बीच नहीं हैं. इस 24 जून को उनकी सातवीं पुण्यतिथि मनाई जाएगी. इस अवसर पर दादा के साथ बिताये पल और स्नेह की स्मृतियाँ कलमबद्ध की है धनंजय कुमार सिन्हा ने. यह आलेख धनंजय कुमार सिन्हा के फेसबुक से लेकर अक्षरशः यहाँ डाली गई है. 
तब मैं पूना में था. मैंने दादा को फोन लगाया कि वहाँ कुछ दिक्कतें आ रही हैं. दादा ने कहा कि वे मुम्बई में हैं और पूने ही आ रहे हैं. राइफल एसोसियेशन का कुछ कार्यक्रम था. उन्होंने शाम 7 बजे तक पूना के आउटस्कर्ट पर अवस्थित एक होटल में पहुँचने को कहा. जगह खोजने में परेशानी न हो इसलिये मैंने पूना के ही एक अन्य साथी को भी अपने साथ ले लिया. फिर भी हमें पहुँचने में थोड़ी विलम्ब हो गई तब तक दादा का 3-4 बार कॉल आ चुका था. मेरे होटल तक पहुँच जाने का अंदाज कर दादा कमरे से निकलकर लिफ्ट से होते हुए ग्राउंड फ्लोर पर पहुँचे, और मैं बगल वाले लि…